24.2 C
Chhattisgarh

Rastogi College : रस्तोगी कॉलेज के हॉस्टल प्रबंधन के खिलाफ अपराध दर्ज, गंदा पानी पीने से एक छात्र की मौत,38 छात्राओं का चल रहा इलाज

Chhattisgarh NewsRastogi College : रस्तोगी कॉलेज के हॉस्टल प्रबंधन के खिलाफ अपराध दर्ज, गंदा पानी पीने से एक छात्र की मौत,38 छात्राओं का चल रहा इलाज

Rastogi College : रस्तोगी कॉलेज के हॉस्टल प्रबंधन के खिलाफ अपराध दर्ज, गंदा पानी पीने से एक छात्र की मौत,38 छात्राओं का चल रहा इलाज

रमेश गुप्ता

Rastogi College : रस्तोगी कॉलेज के हॉस्टल प्रबंधन के खिलाफ अपराध दर्ज, गंदा पानी पीने से एक छात्र की मौत,38 छात्राओं का चल रहा इलाज

Rastogi College : भिलाई। रस्तोगी कॉलेज मॉडल टाउन नेहरू नगर आवासीय छात्रावास में लगातार 3 दिनों से 38 छात्राओं की उल्टी-दस्त होने की शिकायत के बाद हाईटेक अस्पताल में भर्ती कराया गया है। एक छात्रा की मौत हो गई है। इस मामले ने सुपेला पुलिस ने प्रथम दृष्टया जांच के दौरान कॉलेज के हॉस्टल प्रबंधन को दोषी पाया है जिसके स्वरूप हॉस्टल प्रबंधन के खिलाफ269,270,337 304(a) के तहत अपराध पंजीबद्ध किया गया ।

हाइटेक हॉस्पिटल के डॉक्टर रंजन सेनगुप्ता ने बताया कि भर्ती सभी बच्चियों के हालत अभी खतरे से बाहर है। वहीं कुछ बच्चों की छुट्टी भी कर दी गई है।

रस्तोगी कॉलेज के हॉस्टल प्रबंधन की लापरवाही सामने आई

Rastogi College : सोमवार को घटना की सूचना मिलने पर कलेक्टर पुष्पेंद्र मीणा, एसपी डॉ अभिषेक पल्लव एवं स्वास्थ्य विभाग की टीम हाइटेक हॉस्पिटल पहुंचे। भर्ती बच्चियों से उनका हालचाल पूछा बच्चियों ने बताया कि उन्होंने खराब पानी की शिकायत हॉस्टल प्रबंधन से की थी पर उनके द्वारा ध्यान नहीं दिया गया। कलेक्टर पुष्पेंद्र मीणा ने हॉस्पिटल में व्यवस्थाओं की जांच के निर्देश दिए थे। जांच में पाया गया कि पानी खराब होने की वजह से छात्राओं की तबीयत खराब हुई। कलेक्टर ने बताया कि इस संबंध में हॉस्टल प्रबंधन की लापरवाही सामने आई है। बालोद निवासी एक छात्रा की मृत्यु भी हुई है।

Rastogi College : मेस में गंदगी का अंबार

रस्तोगी नर्सिंग कॉलेज से लगा उनका मेस है। यहां लकड़ी के चूल्हें में छात्राओं के लिए बल्क में खाना बनाया जाता है। मेस से लगा गंदा नाला है जहां से लगातार बदबू आते रहती है। इस माहौल में यहां खाना बनता है और यहीं पर सर्व किया जाता है। छात्राएं गंदगी व बदबू के बीच खाना खाती हैं।

यही नहीं यहां के पानी की गुणवत्ता भी खराब है। निगम प्रशासन से जांच के लिए पानी का सैंपल लिया है जिसकी रिपोर्ट में यह बताया गया कि पानी प्रदूषित था इसकी वजह से बच्चे बीमार हुए। मेस में गंदगी व खराब खाना देने की शिकायतें यहां छात्राओं ने कई बार कॉलेज के हॉस्टल प्रबंधन से की है इसके बाद भी कोई एक्शन नहीं लिया गया।

कुछ छात्राओं ने नाम न उजागर न करने की शर्त पर बताया कि उन लोगों ने हॉस्टल प्रबंधन से मेस में गंदगी व बदबू की शिकायत की थी। हर बार आश्वासन दिया गया लेकिन कभी भी इसकी हालत सुधारने पर ध्यान नहीं दिया गया। आज जो भी स्थिति है उसके लिए पूरी तरह से  हॉस्टल प्रबंधन  जिम्मेदार है।

Rastogi College : एबीवीपी ने किया प्रदर्शन

also read : https://jandhara24.com/news/108762/corona-update-today-in-chhattisgarh-the-deepening-crisis-of-corona-has-come-to-the-fore/

रस्तोगी नर्सिंग कॉलेज में अव्यवस्थाओं को लेकर मंगलवार को कॉलेज गेट के सामने जमकर प्रदर्शन किया। मौके पर स्मृति नगर चौकी पुलिस भी पहुंची थी। लगभग दो घंटे से ज्यादा यहां एबीवीपी के सदस्यों ने प्रदर्शन किया। एबीवीपी के सदस्यों ने रस्तोगी कॉलेज के हॉस्टल प्रबंधन से मृत छात्रा को मुआवजा देने की मांग की। इस दौरान कॉलेज गेट फांदने का भी प्रयास किया गया। मौके पर पुलिस बल ने संभाला। समझाइश के बाद प्रदर्शनकारी वापस लौटे। इस दौरान जिला संयोजक नागेश्वर यादव, विभाग संगठन मंत्री दीपक गुप्ता, पलाश घोष, अभिषेक साहू सहित कार्यकर्ता उपस्थित थे।

इनका चल रहा इलाज

मनीषा, पंकज कुमार, बी याशमीन, चुनेश्वरी, सबिता धुर्वे, प्रेरणा सहारा,आरती ठाकुर, दिलेश्वरी, गोल्डी पटले, अतनमाला, नितेश्वरी भूरी, शांति धुर्वे, फूल कुमारी, ज्योति, रुखमणी मेरावी, किमी रविता, सविता मरकाम, नमिता गोटा, नंदनी, शिमला सीदर, रोशनी पनरिया, काजल, अमरिका सिदर, लक्की खरे, पायल नेताम, दमनी भारद्वाज, लीलेश्वरी कोठारी, कुमेश्वरी, कविता रात्रे, साधना टंडिया, दिव्या सोरी, रानी।

बारिश के समय गंदा पानी घुस गया था जिसकी वजह से डायरिया हुआ है। अभी सब बच्चों की हालत ठीक है। आरओ सिस्टम के संबंध में उन्होंने बताया कि आरओ ठीक था। चेयरमैन के आने के बाद बच्चों को जो भी मदद करनी होगी की जाएगी।

श्रीनी नायरजनरल मैनेजर, रस्तोगी कॉलेज
स्वास्थ्य विभाग ने कलेक्टर को सौंपी रिपोर्ट, प्रबंधन पर कार्रवाई तय

फूड पॉयजनिंग मामले में रस्तोगी कॉलेज के हॉस्टल प्रबंधन पर कार्रवाई तय हो गई है। स्वास्थ्य विभाग ने मंगलवार को अपनी जांच पूरी कर रिपोर्ट कलेक्टर को सौंप दी है। स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के रस्तोगी नर्सिंग कॉलेज के हॉस्टल का पानी को दूषित माना है। इसी वजह से एक छात्रा की मौत हुई और 39 छात्राएं बीमार पड़ी हैं। अब इस मामले में जिला कलेक्टर द्वारा कार्रवाई तय की जाएगी। स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट में बताया गया कि रस्तोगी नर्सिंग कॉलेज के वेद हॉस्टल के मेस में बल्क में खाना बनाया जाता है। हॉस्टल की वार्डन रूखमणी यादव ने बताया कि यहां बनने वाला खाना 6 हॉस्टल में भेजा जाता है।

जबकि केवल मॉडल टाउन के वेद हॉस्टल की छात्राएं बीमार पड़ी और जिस छात्रा की मौत हुई वह भी इसी हॉस्टल की है। वहीं शेष किसी भी हॉस्टल की छात्राओं के बीमार होने की सूचना नहीं है। इसलिए माना जा रहा है कि वेद हॉस्टल का जल दूषित है और इसी के कारण छात्राएं बीमार हुई है।

संयुक्त जांच दल पता चला कि यहां पर रहने वाले बच्चों के भोजन, नाश्ता की व्यवस्था के बारे में बताया गया कि मॉडल टाउन स्थित मेस से भोजन तैयार होकर इस हॉस्टल के साथ अन्य 6 और हॉस्टलों में निवासरत प्रशिक्षकों को भोजन भेजा जाता है लेकिन वर्तमान में हाईटेक अस्पताल में केवल वेद हॉस्टल स्मृति नगर के ही 55 प्रशिक्षु संकमित पाये गये। जिसमें से 04 डिस्चार्ज हो गया एवं 51 मरीज सुरक्षित है तथा 01 बालोद निवासी 19 वर्षीय छात्रा की मृत्यु हो गई।

परिजनों से संपर्क किया गया उन्होंने किसी प्रकार की शिकायत दर्ज नहीं कराई और न ही शव का पोस्टमार्टम कराया। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, डॉ. जेपी मेश्राम, जिला सर्वेलेंस अधिकारी आईडीएसपी डॉ. सीबीएस बंजारे, एम.डी. मेडिसिन स्पेशलिस्ट डॉ. मनोज दानी, जिला एपिडेमोलॉजिस्ट रितीका सोनवानी,

भिलाई रेपिड रिस्पांस टीम (कॉम्बेट टीम) तुषार वर्मा, शहरी कार्यक्रम प्रबंधक भिलाई एवं उनके टीम के द्वारा संयुक्त रूप से अस्पताल में भर्ती छात्राओं से चर्चा की थी। सीएमएचओ की जांच टीम ने भिलाई निगम के जल विभाग के सहायक अभियंता बृजेश श्रीवास्तव एवं आलोक पसीने, स्वास्थ्य अधिकारी धर्मेन्द्र मिश्रा की संयुक्त टीम द्वारा रस्तोगी नर्सिंग कॉलेज के संचालक प्रमोद बल्लेवार की उपस्थिति में वेद हॉस्टल से सभी जगह से पानी का सैंपल लिया गया।

also read : Measurement department : मिठाई दुकानों और होटलों को नाप-तौल विभाग का सख्त आदेश,

Check out other tags:

Most Popular Articles