aajkijandhara

Transfer ट्रांसफर के नाम पर महिला कर्मचारी को अपने पास बुलाने का ऑडियो सोशल मिडिया पर वायरल

Country’s first private train : देश की पहली निजी ट्रेन में सरकारी कर्मचारी कर सकेंगे यात्रा, ये कर्मचारी होंगे पात्र

Country's first private train : देश की पहली निजी ट्रेन में सरकारी कर्मचारी कर सकेंगे यात्रा, ये कर्मचारी होंगे पात्र

Country’s first private train : देश की पहली निजी ट्रेन में सरकारी कर्मचारी कर सकेंगे यात्रा, ये कर्मचारी होंगे पात्र

Country’s first private train : देश की पहली निजी ट्रेन ‘तेजस एक्सप्रेस’ में अब केंद्रीय कर्मियों को मिलेगा सफर का मौका भारत सरकार के वित्त मंत्रालय के व्यय विभाग ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिए हैं। मंत्रालय ने ‘तेजस एक्सप्रेस’ में केंद्रीय कर्मचारियों को

Country's first private train : देश की पहली निजी ट्रेन में सरकारी कर्मचारी कर सकेंगे यात्रा, ये कर्मचारी होंगे पात्र
Country’s first private train : देश की पहली निजी ट्रेन में सरकारी कर्मचारी कर सकेंगे यात्रा, ये कर्मचारी होंगे पात्र

Also read  :Judo Federation of India : राष्ट्रीय जूडो ली एवं रैंकिंग जूडो प्रतियोगिता वेस्ट जोन का आयोजन मेहसाणा में 11 सितंबर से 15 सितंबर तक

Country’s first private train : उसी तर्ज पर यात्रा करने की सुविधा प्रदान की है जैसे सरकारी कर्मचारियों को ‘शताब्दी’ ट्रेन में यात्रा करने का अवसर मिलता था। हालांकि, सरकारी कर्मचारियों के लिए यात्रा के कुछ नियम/शर्तें वित्त मंत्रालय द्वारा निर्धारित की गई हैं।

कोरोना काल में यह ट्रेन काफी देर तक बंद रही

भारत सरकार के वित्त मंत्रालय के व्यय विभाग ने 12 सितंबर को यह आदेश जारी किया है। तेजस एक्सप्रेस को 24 मई 2017 को शुरू किया गया था। पहले दिन यह ट्रेन मुंबई छत्रपति शिवाजी टर्मिनस से गोवा करमाली के बीच चली।

Country's first private train : देश की पहली निजी ट्रेन में सरकारी कर्मचारी कर सकेंगे यात्रा, ये कर्मचारी होंगे पात्र
Country’s first private train : देश की पहली निजी ट्रेन में सरकारी कर्मचारी कर सकेंगे यात्रा, ये कर्मचारी होंगे पात्र

हालांकि, देश की पहली निजी ट्रेन के रूप में तेजस एक्सप्रेस ने 4 अक्टूबर 2019 को गति पकड़ी। इस कार के किराए में उतार-चढ़ाव होता रहता है। कोरोना महामारी के दौरान यह ट्रेन काफी समय से बंद थी। अक्टूबर 2020 में इसे फिर से

चलाने का निर्णय लिया गया। तेजस एक्सप्रेस को लखनऊ-नई दिल्ली और अहमदाबाद-मुंबई दोनों मार्गों पर पेश किया गया था।

Also read  :https://jandhara24.com/news/114801/secunderabad-fire-incident-8-people-died-so-far-fire-from-electric-vehicle-showroom

इन लोगों को मिलेगी यात्रा की अनुमति

वित्त मंत्रालय के व्यय विभाग का कहना है कि अब इस ट्रेन में सरकारी कर्मचारी यात्रा कर सकते हैं. हालांकि इसके लिए कुछ नियम तय किए गए हैं। तेजस एक्सप्रेस में केवल उन्हीं कर्मियों को यात्रा करने की अनुमति होगी।

Country's first private train : देश की पहली निजी ट्रेन में सरकारी कर्मचारी कर सकेंगे यात्रा, ये कर्मचारी होंगे पात्र
Country’s first private train : देश की पहली निजी ट्रेन में सरकारी कर्मचारी कर सकेंगे यात्रा, ये कर्मचारी होंगे पात्र

आधिकारिक दौरे पर जा रहे हैं
या फिर उन्हें किसी ट्रेनिंग प्रोग्राम का हिस्सा बनने जाना है।

जिन शासकीय सेवकों का स्थानान्तरण हो गया है और जिन्हें नई पदस्थापना के स्थान पर कार्यभार ग्रहण करना है।
सरकारी कर्मचारी सेवानिवृत्त हो चुका है और उसे वहां से अपने पैतृक स्थान जाना है।

ऐसे सभी मामलों में केंद्रीय कर्मी तेजस एक्सप्रेस में यात्रा कर सकते हैं। कार्यालय ज्ञापन के अनुसार आधिकारिक दौरे पर तेजस एक्सप्रेस ट्रेन से यात्रा की स्वीकार्यता के मामले पर वित्त विभाग में विचार किया गया है. 13 जुलाई, 2017 के

कार्यालय ज्ञापन के पैरा 2ए (ii) में उल्लिखित ट्रेनों के अलावा तेजस एक्सप्रेस ट्रेनों में यात्रा की अनुमति देने का निर्णय लिया गया है। तेजस एक्सप्रेस ट्रेनों में यात्रा करने की पात्रता वही होगी जो उल्लेखित शताब्दी ट्रेनों में है।

इस विभाग के कार्यालय ज्ञापन के पैरा 2ए (ii) में 13 जुलाई, 2017 की सम संख्या का।

देर से मुआवजा

इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉर्पोरेशन लिमिटेड (IRCTC) ने तेजस एक्सप्रेस में यात्रा करने वाले यात्रियों को विभिन्न सुविधाएं प्रदान की हैं। यात्रियों को मुआवजा इन्हीं सुविधाओं में से एक है।

Country's first private train : देश की पहली निजी ट्रेन में सरकारी कर्मचारी कर सकेंगे यात्रा, ये कर्मचारी होंगे पात्र
Country’s first private train : देश की पहली निजी ट्रेन में सरकारी कर्मचारी कर सकेंगे यात्रा, ये कर्मचारी होंगे पात्र

अगर तेजस एक्सप्रेस ट्रेन अपने निर्धारित समय से देरी से चलती है, तो उसके यात्रियों को आईआरसीटीसी द्वारा मुआवजा दिया जाता है। इन नियमों के मुताबिक तेजस एक्सप्रेस एक घंटे लेट होने पर यात्रियों को 100 रुपये और ट्रेन 2 घंटे से

ज्यादा लेट होने पर यात्रियों को 250 रुपये। यह कॉरपोरेट ट्रेन पहली बार 20 अक्टूबर 2019 को लेट हुई थी। उस समय तेजस एक्सप्रेस लखनऊ से दिल्ली जा रही थी।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *