Wheat Price Update : सस्ता होगा गेहूं! आम आदमी को राहत देने के लिए सरकार का बड़ा कदम

Wheat Price Update : सस्ता होगा गेहूं! आम आदमी को राहत देने के लिए सरकार का बड़ा कदम

Wheat Price Update : सस्ता होगा गेहूं! आम आदमी को राहत देने के लिए सरकार का बड़ा कदम

Wheat Price Update : अगर आप गेहूं की लगातार बढ़ती कीमत से परेशान हैं तो यह खबर आपको जरूर राहत देगी। जी हां, आने वाले समय में आम आदमी को गेहूं की बढ़ती कीमतों से राहत मिलेगी। गेहूं की खुदरा कीमतों को नियंत्रित करने के लिए

Without USB Type-C Smartphone : भारत में नहीं बिकेंगे ऐसे स्मार्टफोन, जानिए सरकार ने किस वजह से लिया ये फैसला

Wheat Price Update : सरकार एफसीआई के गोदाम से 15-20 हजार टन गेहूं निकालने पर विचार कर रही है। एफसीआई के इस गेहूं को आटा मिलों आदि को ओपन मार्केट सेल स्कीम (ओएमएसएस) के तहत बेचने की योजना है। सरकारी सूत्रों ने इसकी जानकारी दी।

Wheat Price Update : सस्ता होगा गेहूं! आम आदमी को राहत देने के लिए सरकार का बड़ा कदम
Wheat Price Update : सस्ता होगा गेहूं! आम आदमी को राहत देने के लिए सरकार का बड़ा कदम

आटे का रेट 37.25 रुपये पर पहुंच गया
उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय के मुताबिक, 27 दिसंबर को गेहूं का खुदरा भाव 32.25 रुपये प्रति किलो था. यह एक साल पहले की समान अवधि के 28.53 रुपये प्रति किलोग्राम से काफी अधिक है। गेहूं के आटे का भाव पिछले साल की तुलना में बढ़कर 37.25 रुपये प्रति किलो हो गया। एक साल पहले यह 31.74 रुपये प्रति किलो पर था।

आपूर्ति में वृद्धि
ओएमएसएस के तहत, भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) को सरकार द्वारा समय-समय पर थोक खरीदारों और निजी व्यापारियों को खुले बाजार में गेहूं और चावल बेचने की अनुमति दी जाती है।

इसका मकसद मौसमी मांग के मुताबिक आपूर्ति को सपोर्ट करना और मुक्त बाजार में बढ़ती कीमतों को कम करना है। सूत्रों ने कहा कि खाद्य मंत्रालय ने गेहूं पर 2023 ओएमएसएस नीति का अनावरण किया है।

https://jandhara24.com/news/134178/new-recharge-plans/

15-20 हजार टन अनाज जारी किया जाएगा
इस नीति के तहत थोक खरीदारों को एफसीआई से 1.5-2 करोड़ टन खाद्यान्न जारी किए जाने की संभावना है। सूत्रों ने बताया कि एफसीआई की ओर से जारी गेहूं का रेट क्या होगा, इसका रेट अभी तय नहीं हुआ है। एक अन्य सूत्र का यह भी दावा है कि सरकार के पास पर्याप्त गेहूं है जिसके कारण गेहूं को ओएमएसएस के तहत जारी किया जाएगा।

साथ ही आने वाले सीजन में गेहूं की नई फसल की संभावना भी बेहतर नजर आ रही है। पिछले साल की तुलना में इस बार खेती का रकबा बढ़ा है। खुले बाजार में एफसीआई के गेहूं के भाव में गिरावट की संभावना है। 5 दिसंबर तक केंद्रीय पूल में लगभग 180 मिलियन टन गेहूं और 111 मिलियन टन चावल उपलब्ध था।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

MENU