(Al Hilal)

(Al Hilal) ‘बेशर्म रंग’ की राजनीति

सुधीश पचौरी (Al Hilal) ‘बेशर्म रंग’ की राजनीति (Al Hilal) ‘हमें तो लूट लिया मिलके इश्क वालों ने..बेशर्म रंग कहां देखा दुनिया वालों ने..।’ ये इस गाने की निरी ‘मिसोजिनिस्टक सेक्सिस्ट’ लाइनें हैं। इससे पहले जो दो लाइनें गाई जाती हैं, वे शायद स्पेनिश में हैं, जो कहती दिखती है कि ‘आज की रात जिदंगी […]

(Al Hilal) ‘बेशर्म रंग’ की राजनीति Read More »