aajkijandhara

Transfer ट्रांसफर के नाम पर महिला कर्मचारी को अपने पास बुलाने का ऑडियो सोशल मिडिया पर वायरल

(superior health facility) बेहतर स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने करोड़ो खर्च, लाख दावे के बावजूद नहीं मिल पा रहा आमजन को लाभ

(superior health facility)

(Superior health facility) शासकीय अस्पताल सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र भानुप्रतापपुर

(superior health facility)  भानुप्रतापपुर। नगर के सबसे बड़े शासकीय अस्पताल सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र भानुप्रतापपुर में शासकीय एम्बुलेंस सहित पांच वाहन एवं निजी वाहनों में 108 व 102 वाहन होने के बावजूद भी क्षेत्र के लोगो को एम्बुलेंस वाहन की सुविधा समय पर नही मिल पा रही है। जिससे परिजनों को परेशानी हो रही है वही मरीज को तत्काल उपचार नही मिल पा रहे है।

विगत 4 साल से स्वास्थ्य विभाग का एक वाहन चालक ओम प्रकाश चालाकी एसडीएम कार्यालय में संलग्न है वहीं एक वाहन को एक साल से तहसीलदार के पास लगी हुई है।

(superior health facility)  जिसके तहसीलदार द्वारा अपना गाड़ी बताया जा रहा है। खण्ड चिकित्सा अधिकारी द्वारा वाहन व चालक के लिए कई बार विभाग में पत्राचार किया गया पर कोई जवाब देना जरूरी नहीं समझ रहे हैं।

जिसके बाद जिला चिकित्सा अधिकारी द्वारा कलेक्टर कार्यालय में पत्राचार कर इस ओर ध्यानाकर्षित किया गया है। इसी तरह वाहन चालक व वाहन को अधिग्रहण कर रखे रहेंगे और अपना हक जताएंगे तो क्षेत्र के लोगों को किस प्रकार से सुविधा मिलेगी।

केंद्र व राज्य सरकार के द्वारा लोगो को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने के लाख दावे करते है। राशि भी करोड़ो खर्च की जाती है, लेकिन लाभ आमजनों को नही मिल पा रहा है।

बता दे कि सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र भानुप्रतापपुर क्षेत्र के बड़े अस्पताल है, लेकिन सुविधा के नाम से कुछ भी नही है। एम्बुलेंस वाहन की बात करे तो शासकीय वाहन, परिवहन संघ द्वारा प्रदत्त एम्बुलेंस, बजरंग माइंस द्वारा प्रदत्त एम्बुलेंस, संजीवनी 108 एवं महतारी 102 वाहन है। लेकिन समय पर मरीजो को एम्बुलेंस वाहन की सुविधा नही मिल पाती है। भानुप्रतापपुर एसडीएम को इस मामले में संपर्क किया गया लेकिन संपर्क नहीं हो पाया।

(superior health facility)  वे मामले जिनमें नहीं मिली एम्बुलेंस सुविधा

ग्राम बांसला निवासी देवेंद्र देहारी कि पत्‍नी निरुपमा देहारी को 30 जुलाई 2022 को सुबह प्रसव पीडा हुई। 108 में कॉल करने पर यह वाहन उपलब्ध नहीं होना बताया गया जिसके बाद 102 में कॉल किया गया।

इसमें बताया गया कि वाहन को आने में 1 घंटे का समय लगेगा। लेकिन घंटे भर इंतज़ार के बावजूद जब एम्बुलेंस नहीं आई तो परिजनो ने महिला को किराए का गाड़ी कर समुदायिक स्‍वास्‍थ्य केंद्र भानुप्रतापपुर में लाया गया।

(superior health facility)  इसी तरह ग्राम चवेला के लक्ष्मी भुआर्य को 15 जनवरी दोपहर 12 बजे प्रसव पीड़ा उठा था। जिसके बाद उनके पति चुन्नू राम भुआर्य द्वारा 108 व 102 को कई बार कॉल किया गया। लेकिन कॉल नहीं उठाया गया। जिसके बाद उनके पति द्वारा प्रवेट वाहन से दुर्गुकोंदल स्वास्थ्य केंद्र पहुचाया गया। जिसके बाद लक्ष्मी भुआर्य द्वारा दो जुड़वा बच्चे को जन्म दिया, जिसमें एक बच्चे की मृत्यु हो हई हैं।

 

सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र बीएमओ अखिलेश ध्रुव ने बताया कि अस्पताल प्रबंधन के पास डॉक्टर, स्टाफ व मरीजों के लाने ले जाने हेतु कुल 5 वाहन थे, जिनमें एक वाहन सूमो क्रमांक सीजी 02 -2164 को पिछले विधानसभा चुनाव 2019 में राजस्व विभाग द्वारा अधिग्रहण किया गया है जिसे चार वर्ष उपरांत भी नही लौटाया गया है।

(superior health facility)  वहीं पिछले वर्ष धन खरीदी केंद्रों का निरीक्षण करने के लिए तहसीलदार द्वारा स्वास्थ्य विभाग के वाहन क्रमांक सीजी 02 – 2164 को अधिग्रहण किया गया है। जिसे भी तहसीलदार द्वारा वापस नहीं लौटाया जा रहा है। तीन वाहन पूरी तरह से कंडम व जर्जर हो गए है। जिस कारण हमारे विभाग में वाहन व वाहन चालक की बड़ी परेशानी हो रही हैं।

भानुप्रतापपुर तहसीलदार – सुरेंद्र उर्वसा

स्वास्थ्य विभाग के वाहन के बारे में तहसीलदार से पूछा गया तो उनके द्वारा अपना हक जताते हुए स्वास्थ्य विभाग से लिखित में लाने की बात कही गई।

1 thought on “(superior health facility) बेहतर स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने करोड़ो खर्च, लाख दावे के बावजूद नहीं मिल पा रहा आमजन को लाभ”

  1. Pingback: (Godavari Power & Steel Limited) माइंस प्रबंधन ने तोड़ा पुराना सेफ्टी जोन,  डीएफओ ने किया निरीक्षण, कई खामियां आई साम

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *