aajkijandhara

Transfer ट्रांसफर के नाम पर महिला कर्मचारी को अपने पास बुलाने का ऑडियो सोशल मिडिया पर वायरल

Subhash Chandra Bose Jayanti : जिस व्यक्ति के अंदर ‘सनक’ नहीं होती वो…’, इन विचारों से करें सुभाष चंद्र बोस को याद

Subhash Chandra Bose Jayanti : जिस व्यक्ति के अंदर 'सनक' नहीं होती वो...', इन विचारों से करें सुभाष चंद्र बोस को याद

Subhash Chandra Bose Jayanti : जिस व्यक्ति के अंदर ‘सनक’ नहीं होती वो…’, इन विचारों से करें सुभाष चंद्र बोस को याद

 

Subhash Chandra Bose Jayanti : सुभाष चंद्र बोस की आज 126वीं जयंती है। अंग्रेजों के भारत छोड़ने के कारणों में नेताजी की रणनीति और उनके द्वारा बनाई गई आजाद हिंद फौज की वीरता शामिल थी। उनके जन्मदिन को शौर्य दिवस के रूप में मनाया जाता है। उनके शब्द और नारे लाखों भारतीयों को जोश से भर देते हैं।

Subhash Chandra Bose Jayanti : जिस व्यक्ति के अंदर 'सनक' नहीं होती वो...', इन विचारों से करें सुभाष चंद्र बोस को याद
Subhash Chandra Bose Jayanti : जिस व्यक्ति के अंदर ‘सनक’ नहीं होती वो…’, इन विचारों से करें सुभाष चंद्र बोस को याद

Subhash Chandra Bose Jayanti : आज इस खास मौके पर सुभाष चंद्र बोस को इन विचारों के साथ याद करें:-
“तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा”
*याद रहे सबसे बड़ा अपराध अन्याय सहना और दुष्टता से समझौता करना है।
*”मैं नहीं जानता कि इस स्वतंत्रता संग्राम में हम दोनों में से कौन बचेगा, लेकिन मैं जानता हूं कि अंत में जीत हमारी ही होगी।”

Subhash Chandra Bose Jayanti : जिस व्यक्ति के अंदर 'सनक' नहीं होती वो...', इन विचारों से करें सुभाष चंद्र बोस को याद
Subhash Chandra Bose Jayanti : जिस व्यक्ति के अंदर ‘सनक’ नहीं होती वो…’, इन विचारों से करें सुभाष चंद्र बोस को याद

* “जो अपने बल पर निर्भर रहते हैं वे आगे बढ़ते हैं और जिन्होंने शक्ति उधार ली है वे चोटिल होते हैं।”
* ‘वीरों की तरह झुकें, भले ही आपको अस्थायी रूप से झुकना पड़े।’
*”जिस व्यक्ति में ‘पागलपन’ नहीं है वह कभी महान नहीं बन सकता।” लेकिन इसमें इससे इतर भी कुछ होना चाहिए।
* ‘राष्ट्रवाद मानवता, सत्य, शिव और सुंदर के उच्चतम आदर्शों से प्रेरित है।’
* भारत पुकारता है, खून खून कहता है। जागो, हमारे पास फालतू समय नहीं है। हथियार उठाओ, हम अपने दुश्मनों से लड़ेंगे या, भगवान ने चाहा, हम शहीद की मौत मरेंगे।
स्वतंत्रता दी नहीं जाती बल्कि ली जाती है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *