19.2 C
Chhattisgarh

Shinzo Abe Funeral Today : जापान के पूर्व पीएम की मृत्यु के ढाई महीने बाद उनका अंतिम संस्कार क्यों किया गया? पूरी प्रक्रिया को समझें

WorldShinzo Abe Funeral Today : जापान के पूर्व पीएम की मृत्यु के ढाई महीने बाद उनका अंतिम संस्कार क्यों किया गया? पूरी प्रक्रिया को समझें

Shinzo Abe Funeral Today : जापान के पूर्व पीएम की मृत्यु के ढाई महीने बाद उनका अंतिम संस्कार क्यों किया गया? पूरी प्रक्रिया को समझें

Shinzo Abe Funeral Today : जापान के पूर्व पीएम की मृत्यु के ढाई महीने बाद उनका अंतिम संस्कार क्यों किया गया? पूरी प्रक्रिया को समझें

Shinzo Abe Funeral Today : जापान के पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आबे का राजकीय अंतिम संस्कार आज टोक्यो में हुआ। इसमें भाग लेने के लिए दुनिया भर से 217 देशों के प्रतिनिधि टोक्यो पहुंचे।

Shinzo Abe Funeral Today : भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी टोक्यो पहुंचे और आबे को अंतिम विदाई दी। इसे दुनिया का सबसे महंगा अंतिम संस्कार बताया जा रहा है। इसमें 97 करोड़ खर्च किए गए।

Shinzo Abe Funeral Today : जापान के पूर्व पीएम की मृत्यु के ढाई महीने बाद उनका अंतिम संस्कार क्यों किया गया? पूरी प्रक्रिया को समझें
Shinzo Abe Funeral Today : जापान के पूर्व पीएम की मृत्यु के ढाई महीने बाद उनका अंतिम संस्कार क्यों किया गया? पूरी प्रक्रिया को समझें

Also read  :Actress Asha Parekh : मशहूर अभिनेत्री आशा पारेख दादा साहब फाल्के से सम्मानित

शिंजो आबे की 8 जुलाई को गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। आरोपी को मौके से ही पकड़ लिया गया था। ऐसे में आप सोच रहे होंगे कि जब आबे की 8 जुलाई को मौत हुई तो ढाई महीने बाद अब उनका अंतिम संस्कार क्यों किया जा रहा है?

जापान में अंतिम संस्कार की प्रक्रिया कैसी है?

आज अंतिम संस्कार क्यों किया जा रहा है?
दरअसल, 8 जुलाई को शिंजो आबे की हत्या कर दी गई थी। इसके बाद परिवार ने बौद्ध परंपरा के अनुसार 15 जुलाई को उनका अंतिम संस्कार कर दिया। आज जो राजकीय अंतिम संस्कार हुआ है वह प्रतीकात्मक है।

अबे की राख को श्रद्धांजलि के रूप में उसमें रखा गया था। आबे की अंतिम विदाई के लिए दुनिया भर के 217 देशों के प्रतिनिधि पहुंचे हैं। इस दौरान लोगों ने आबे से जुड़ी अपनी पुरानी यादें साझा कीं.

Shinzo Abe Funeral Today : जापान के पूर्व पीएम की मृत्यु के ढाई महीने बाद उनका अंतिम संस्कार क्यों किया गया? पूरी प्रक्रिया को समझें
Shinzo Abe Funeral Today : जापान के पूर्व पीएम की मृत्यु के ढाई महीने बाद उनका अंतिम संस्कार क्यों किया गया? पूरी प्रक्रिया को समझें

इसके लिए भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी जापान पहुंच चुके हैं। शिंजो आबे पीएम मोदी के अच्छे दोस्तों में से एक रहे हैं।

Also read  : https://jandhara24.com/news/117881/road-safety-world-tournament-match-between-sri-lanka-bangladesh-know-today-what-is-the-date-of-semi-final/

जापान में अंतिम संस्कार कैसे किया जाता है?
जापान में ज्यादातर लोग बौद्ध परंपरा के अनुसार शवों का अंतिम संस्कार करते हैं। इस परंपरा के अनुसार मरने के बाद परिजन मृतक के होठों पर पानी लगाते हैं। जिसे आखरी समय का जल कहा जाता है।

मृत्यु के अगले दिन ‘जागने’ की परंपरा है, जिसमें परिचितों का जमावड़ा होता है। वह शव के अंतिम दर्शन देते हैं। इस दौरान उनसे जुड़ी यादें साझा करें। पुरुष काले सूट, सफेद शर्ट और काली टाई पहनकर आते हैं।

वहीं महिलाएं काले कपड़े पहनकर आती हैं। कई बार लोग मृतक के परिजनों को काले या चांदी के रंग के लिफाफों में पैसे भी देते हैं। बौद्ध परंपरा के अनुसार मंत्रों का पाठ भी किया जाता है।

इसके बाद शवों को हिंदू धर्म की तरह आग के हवाले कर दिया जाता है। मतलब शव को जलाने से जुड़ी एक परंपरा है। ताबूत को धीरे-धीरे विद्युत शवदाह गृह के एक कक्ष में ले जाया जाता है।

इस दौरान परिवार के लोग वहां मौजूद रहते हैं। ताबूत पूरी तरह से चेंबर में होने के बाद परिजन घर वापस चले जाते हैं। दो से तीन घंटे के बाद परिजनों को फिर से बुलाया जाता है और मृतक के अवशेष उन्हें दे दिए जाते हैं।

Shinzo Abe Funeral Today : जापान के पूर्व पीएम की मृत्यु के ढाई महीने बाद उनका अंतिम संस्कार क्यों किया गया? पूरी प्रक्रिया को समझें
Shinzo Abe Funeral Today : जापान के पूर्व पीएम की मृत्यु के ढाई महीने बाद उनका अंतिम संस्कार क्यों किया गया? पूरी प्रक्रिया को समझें

रिश्तेदार हड्डियों को चॉप स्टिक से इकट्ठा करते हैं और कलश में रखते हैं। पहले पांव की अस्थियां और फिर सिर को कलश में रखा जाता है।

हड्डियों को सनातन धर्म में विसर्जित किया जाता है, फिर उन्हें जापान में दफनाया जाता है।
हिंदू परंपरा के अनुसार मृतक की अस्थियों को नदियों में विसर्जित किया जाता है। वहीं, जापान में थोड़ी अलग परंपरा है। वहां के लोग परिवार की कब्र में कलश में रखे अवशेषों को दफना देते हैं।

कई लोग अवशेषों को सीधे दफनाने के लिए ले जाते हैं, जबकि कई लोग इसे कुछ दिनों के लिए अपने घर पर रखते हैं। कभी-कभी इन्हें अलग-अलग भी बांटा जाता है।

जापान में राख को कलश में रखने की भी परंपरा है। इसके लिए मकबरे के आकार की आलमारी बनाई जाती है। ये भी बहुमंजिला इमारतें हैं।

इन 10 से 12 मंजिला इमारतों में मकबरे के आकार की छोटी-छोटी अलमारियां बनाई जाती हैं, जहां लोग राख को रखते हैं। समय-समय पर परिवार के लोग भी यहां आकर श्रद्धांजलि देते हैं।

शिंजो आबे के साथ क्या हुआ?
8 जुलाई की सुबह पूर्व जापानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। हमले के बाद आबे को अस्पताल ले जाया गया, जहां उनकी मौत हो गई।

घटना के समय पूर्व पीएम शिंजो आबे नारा शहर में कांसुलर चुनाव के लिए भाषण दे रहे थे। रैली नारा सिटी के यमातोसैदाईजी स्टेशन के पास हुई.

Shinzo Abe Funeral Today : जापान के पूर्व पीएम की मृत्यु के ढाई महीने बाद उनका अंतिम संस्कार क्यों किया गया? पूरी प्रक्रिया को समझें
Shinzo Abe Funeral Today : जापान के पूर्व पीएम की मृत्यु के ढाई महीने बाद उनका अंतिम संस्कार क्यों किया गया? पूरी प्रक्रिया को समझें

इसी बीच जापानी नौसेना के एक पूर्व अधिकारी ने आबे को पीछे से गोली मार दी। पूर्व पीएम को पीठ में गोली लगी थी. तीन घंटे तक अस्पताल में उनका इलाज चला, लेकिन उनकी जान नहीं बचाई जा सकी.

आरोपी का नाम तेत्सुया यामागामी है। उनकी उम्र 41 साल है। वह नारा शहर का रहने वाला है।

Check out other tags:

Most Popular Articles