You are currently viewing Sharad Purnima Today 2022 : शरद पूर्णिमा का व्रत आज,  इस कथा को पढ़ना ना भूलें, मां लक्ष्मी होंगी प्रसन्न
Sharad Purnima Today 2022 : शरद पूर्णिमा का व्रत आज, इस कथा को पढ़ना ना भूलें, मां लक्ष्मी होंगी प्रसन्न

Sharad Purnima Today 2022 : शरद पूर्णिमा का व्रत आज, इस कथा को पढ़ना ना भूलें, मां लक्ष्मी होंगी प्रसन्न

Sharad Purnima Today 2022 : शरद पूर्णिमा का व्रत आज, इस कथा को पढ़ना ना भूलें, मां लक्ष्मी होंगी प्रसन्न

Sharad Purnima Today 2022 : आज 9 अक्टूबर को शरद पूर्णिमा है और कई जगहों पर इसे कोजागरी पूर्णिमा के नाम से भी जाना जाता है. वैसे तो हर पूर्णिमा तिथि का हिंदू धर्म में बहुत महत्व है, लेकिन शरद पूर्णिमा का विशेष महत्व है।

Also read : Petrol-Diesel Price Today : छत्तीसगढ़ में महंगा हुआ पेट्रोल-डीजल, देखिए और किस राज्य में बदली ईंधन की कीमतें

Sharad Purnima Today 2022 : कहते हैं इस दिन चंद्रमा अपनी 16 कलाओं से परिपूर्ण होता है और इस दिन चंद्रमा का प्रकाश कई रोगों से मुक्ति दिलाता है.

Sharad Purnima Today 2022 : शरद पूर्णिमा का व्रत आज, इस कथा को पढ़ना ना भूलें, मां लक्ष्मी होंगी प्रसन्न
Sharad Purnima Today 2022 : शरद पूर्णिमा का व्रत आज, इस कथा को पढ़ना ना भूलें, मां लक्ष्मी होंगी प्रसन्न

अन्य पूर्णिमा के दिनों की तरह, शरद पूर्णिमा पर भी उपवास किया जाता है और व्रत के दौरान कथा पढ़ना महत्वपूर्ण है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार कोई भी व्रत कथा के बिना अधूरा है। यहां पढ़ें शरद पूर्णिमा व्रत कथा…

शरद पूर्णिमा व्रत कथा

एक कस्बे में एक साहूकार रहता था। उसकी दो बेटियां थीं। साहूकार की दोनों बेटियाँ अपने धार्मिक कार्यों का ध्यान रखती थीं और दोनों पूर्णिमा का व्रत रखती थीं। बड़ी बेटी हमेशा व्रत रखती और छोटी बेटी व्रत को अधूरा ही रखती थी। कुछ समय बाद दोनों ने शादी कर ली।

Sharad Purnima 2022 : चंद्रमा सोलह कलाओं से पूर्ण होकर आज बरसाएगा अमृत - Sharad Purnima 2022 Moon will shower nectar today after completing sixteen phases

बड़ी बेटी ने स्वस्थ बच्चों को जन्म दिया, लेकिन छोटी बेटी के बच्चे पैदा होते ही मर जाते। साहूकार की छोटी बेटी बच्चों की मौत से दुखी होकर पंडित के पास पहुंची। पंडित ने कहा कि आपने हमेशा पूर्णिमा का व्रत अधूरा रखा।

इसलिए आपके बच्चे पैदा होते ही मर जाते हैं। पूर्णिमा का व्रत विधिपूर्वक करने से आपके बच्चे जीवित रह सकते हैं।

उसने वैसा ही किया। बाद में उनके घर एक लड़का पैदा हुआ। जिनकी कुछ दिनों बाद फिर से मौत हो गई। उसने लड़के को एक चटाई (पेडा) पर लेटा दिया और ऊपर से कपड़ा ढक दिया। तब बड़ी बहन को बुलाकर लाया गया और वही पाटा बिठाने के लिए दिया। बड़ी बहन जब उस पर बैठने लगी तो उसका लहंगा बच्चे को छू गया।

Sharad Purnima Today 2022 : शरद पूर्णिमा का व्रत आज, इस कथा को पढ़ना ना भूलें, मां लक्ष्मी होंगी प्रसन्न
Sharad Purnima Today 2022 : शरद पूर्णिमा का व्रत आज, इस कथा को पढ़ना ना भूलें, मां लक्ष्मी होंगी प्रसन्न

लहंगे को छूते ही बच्चा रोने लगा। यह देखकर बड़ी बहन हैरान रह गई और बोली कि तुमने अपने बेटे को यहां क्यों सुला दिया। अगर वह मर गया होता, तो मुझे कलंकित किया जाता। क्या आप ऐसा चाहते थे?

Sharad Purnima 2019: शरद पूर्णिमा पर चांद की रोशनी में रखा खीर बन जाता है अमृत? जानिए क्या कहता है विज्ञान

तब छोटी बहन ने कहा कि यह तो पहले ही मर चुकी है। यह आपके भाग्य से जीवित हो गया है। यह आपके पुण्य के कारण ही जीवित हुआ है। इसके बाद दोनों बहनों ने पूरे शहर में ढोल नगाड़ा और सभी नगरवासियों को शरद पूर्णिमा व्रत की महिमा और पूरी विधि बताई.

Leave a Reply