Sawan Month 2022 : बेहद शुभ संयोग में शुरू हुआ सावन मास, जान लें व्रत नियम व शुभ मुहूर्त

Sawan Month 2022 : बेहद शुभ संयोग में शुरू हुआ सावन मास, जान लें व्रत नियम व शुभ मुहूर्त
  1. Sawan Month 2022 : बेहद शुभ संयोग में शुरू हुआ सावन मास, जान लें व्रत नियम व शुभ मुहूर्त

  2. भगवान शिव को समर्पित Sawan Month 

 भगवान शिव को समर्पित Sawan Month 14 जुलाई, गुरुवार से प्रारंभ हो रहा है।

Also read : https://jandhara24.com/news/106250/rtos-action-on-shriram-transport-company-license-suspended-for-selling-tax-due-vehicles/

मान्यता है कि भगवान शंकर की कृपा पाने के लिए यह Sawan Month अति उत्तम होता है। सावन माह को श्रावण मास के नाम से भी जानते हैं। इस महीने भगवान शंकर की विधि-विधान के साथ पूजा-अर्चना की जाती है।

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, Sawan Month में देवों के देव महादेव की सच्चे मन से पूजा-अर्चना करने वाले भक्तों को दुखों से मुक्ति मिलती है और मनोकामना पूरी होती है।

Sawan Month 2022 : बेहद शुभ संयोग में शुरू हुआ सावन मास, जान लें व्रत नियम व शुभ मुहूर्त
Sawan Month 2022 : बेहद शुभ संयोग में शुरू हुआ सावन मास, जान लें व्रत नियम व शुभ मुहूर्त

प्रीति योग में Sawan Month की शुरुआत-

सावन के पहले दिन प्रीति योग का शुभ संयोग बन रहा है।

प्रीति योग 15 जुलाई सुबह 04 बजकर 16 मिनट से शुरू होकर 16 जुलाई सुबह 12 बजकर 21 मिनट तक रहेगा। मान्यता है कि इस योग में किए गए कार्यों में सफलता हासिल होती है।

Also read  :14 Britain भारतीय मूल के ऋषि सुनक क्या बन पाएंगे ब्रिटेन के पीएम?

Sawan Month  के पहले दिन बन रहे ये शुभ मुहूर्त-

ब्रह्म मुहूर्त- 04:11 ए एम से 04:52 ए एम तक।
अभिजित मुहूर्त- 11:59 ए एम से 12:54 पी एम तक।
विजय मुहूर्त- 02:45 पी एम से 03:40 पी एम तक।
गोधूलि मुहूर्त- 07:07 पी एम से 07:31 पी एम तक।

Sawan Month  के नियम

शास्त्रों के अनुसार, सावन महीने में व्यक्ति को सात्विक आहार लेना चाहिए।

इस माह में प्याज, लहसुन भी नहीं खाना चाहिए। सावन मास में मांस- मदिरा का सेवन नहीं करना चाहिए।

इस महीने भगवान शंकर की विधि-विधान के साथ पूजा करनी चाहिए।

इस माह में ब्रह्मचर्य का भी पालन करना चाहिए।  सावन के महीने में सोमवार के व्रत का बहुत अधिक महत्व होता है।

अगर संभव हो तो सावन माह में सोमवार का व्रत जरूर करें। सावन सोमवार व्रत के दौरान भगवान शिव का जलाभिषेक करें।

Sawan Month भगवान शिव की पूजा में प्रयोग होने वाली सामग्री-

पुष्प, पंच फल पंच मेवा, रत्न, सोना, चांदी, दक्षिणा, पूजा के बर्तन

, कुशासन, दही, शुद्ध देशी घी, शहद, गंगा जल, पवित्र जल,

पंच रस, इत्र, गंध रोली, मौली जनेऊ, पंच मिष्ठान्न, बिल्वपत्र, धतूरा, भांग, बेर, आम्र मंजरी, जौ की बालें,तुलसी दल, मंदार पुष्प,

गाय का कच्चा दूध, ईख का रस, कपूर, धूप, दीप, रूई, मलयागिरी, चंदन, शिव व मां पार्वती की श्रृंगार की सामग्री आदि।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

MENU