Rudrabhishek : आईये जानते हैं रुद्राभिषेक की सरल विधि क्या है?

Rudrabhishek :

Rudrabhishek :  अपने घर मे रुद्राभिषेक करने की सरल विधि

 

Rudrabhishek :  हिंदू धर्म में रुद्राभिषेक को एक महत्वपूर्ण अनुष्ठान माना जाता है, जिसमें शिवलिंग पर श्रद्धा भाव से अभिषेक किया जाता है. रुद्राभिषेक करने से भगवान शिव का आशीर्वाद प्राप्त होता है. लेकिन इसका फल आपको तभी मिलेगा जब विधि-विधान से रुद्राभिषेक करें. इसलिए यह जान लीजिए रुद्राभिषेक के लिए किन सामग्रियों की आवश्यकता होगी और इसे करने की सही विधि क्या है

Rudrabhishek :  रुद्राभिषेक के लिए जरूरी सामग्री

 

आप खुद भी घर पर रुद्राभिषेक करते सकते हैं या फिर किसी पुरोहित के द्वारा भी रुद्राभिषेक करा सकते हैं. रुद्राभिषेक के लिए आपको गाय का घी, चंदन, पान का पत्ता, धूप, फूल, गंध, बेलपत्र, कपूर, मिठाई, फल, शहद, दही, दूध, मेवा, गुलाबजल, पंचामृत गन्ने का रस, चंदन, गंगाजल, शुद्ध जल, सुपारी, नारियल, श्रृंगी आदि की आवश्यकता होगी. रुद्राभिषेक से पहले इन सामग्रियों को एकत्रित कर लें

Rudrabhishek :  रुद्राभिषेक की सरल विधि

 

रुद्राभिषेक के लिए शिवलिंग को उत्तर दिशा में रखें और आपका मुख पूर्व की ओर होना चाहिए. श्रृंगी में सबसे पहले गंगाजल डालें और अभिषेक शुरू करें. फिर इसी से गन्ने का रस, शहद, दही, दूध, जल, पंचामृत आदि जितने तरल पदार्थ हैं, इससे शिवलिंग का अभिषेक करें

 

Rudrabhishek :  रुद्राभिषेक मन्त्र

ॐ नम: शम्भवाय च मयोभवाय च नम: शंकराय चमयस्कराय च नम: शिवाय च शिवतराय च ॥ईशानः सर्वविद्यानामीश्व रः सर्वभूतानां ब्रह्माधिपतिर्ब्रह्मणोऽधिपतिब्रह्मा शिवो मे अस्तु सदाशिवोय्‌ ॥तत्पुरुषाय विद्महे महादेवाय धीमहि।तन्नो रुद्रः प्रचोदयात्॥अघोरेभ्योथघोरेभ्यो घोरघोरतरेभ्यः सर्वेभ्यःसर्व सर्वेभ्यो नमस्ते अस्तु रुद्ररुपेभ्यः ॥वामदेवाय नमो ज्येष्ठारय नमः श्रेष्ठारय नमोरुद्राय नमः कालाय नम:कलविकरणाय नमो बलविकरणाय नमःबलाय नमो बलप्रमथनाथाय *नमःसर्वभूतदमनाय नमो मनोन्मनाय नमः ॥सद्योजातं प्रपद्यामि सद्योजाताय वै नमो नमः ।भवे भवे नाति भवे भवस्व मां भवोद्‌भवाय नमः ॥नम: सायं नम: प्रातर्नमो रात्र्या नमो दिवा ।भवाय च शर्वाय चाभाभ्यामकरं नम: ॥यस्य नि:श्र्वसितं वेदा यो वेदेभ्योsखिलं जगत् ।निर्ममे तमहं वन्दे विद्यातीर्थ महेश्वरम् ॥त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिबर्धनम्उर्वारूकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मा मृतात् ॥सर्वो वै रुद्रास्तस्मै रुद्राय नमो अस्तु ।पुरुषो वै रुद्र: सन्महो नमो नम: ॥विश्वा भूतं भुवनं चित्रं बहुधा जातं जायामानं च यत् ।सर्वो ह्येष रुद्रस्तस्मै रुद्राय नमो अस्तु ॥

रुद्राभिषेक के दौरान महामृत्युंजय मंत्र- “ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्। उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्॥” का जाप करते रहें

इसी के साथ आप शिव तांडव स्तोत्र, ओम नम: शिवाय या रुद्रामंत्र का जाप भी कर सकते हैं

शिवलिंग पर चंदन का लेप लगाएं ,पान पत्ता, बेलपत्र, सुपारी आदि सभी चीजें अर्पित करें और भोग चढ़ाएं

शिवलिंग के पास धूप-दीप जलाएं

अब शिवजी के मंत्र का 108 बार जाप करें और परिवार समेत आरती करें

रुद्राभिषेक के जल को किसी पात्र में एकत्रित करते रहें और बाद में इसी जल से पूरे घर पर छिड़काव करे

इस जल को प्रसाद स्वरूप ग्रहण करें. इससे रोग-दोष दूर हो जाते हैं

Rudrabhishek :  रुद्राभिषेक मन्त्र का प्रभाव

 

👉इच्छित मनोकामना पूर्ण हो इसके लिए दूध के द्वारा रुद्राभिषेक मन्त्र का पाठ करें |
👉धनप्राप्ति और सभी तरह के कर्जो से मुक्ति पाने के लिए फलों के रस से रुद्राभिषेक करे |

👉घर की सभी तरह की बाधाओं को दूर करने के लिए सरसों के तेल से रुद्राभिषेक करें |

👉यदि आप कोई नया कार्य शुरू कर रहे है तो शुद्ध जल में चने की दाल मिलाकर रुद्राभिषेक करें |

👉काले तिल के द्वारा रुद्राभिषेक करने से बुरी नजर व तंत्र से बचाव होता है |

👉शुद्ध जल में घी व शहद मिलाकर रुद्राभिषेक करने से रोग दोष दूर होते है और स्वास्थ्य अच्छा बना रहता है |

👉संतान प्राप्ति के लिए शहद से रुद्रभिषेक करना चाहिए |

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

MENU