aajkijandhara

Transfer ट्रांसफर के नाम पर महिला कर्मचारी को अपने पास बुलाने का ऑडियो सोशल मिडिया पर वायरल

Putin’s dream पुतिन का यह सपना!

Putin's dream

Putin’s dream पुतिन का यह सपना!

Putin's dream
Putin’s dream पुतिन का यह सपना!

Putin’s dream क्या अब उस कमी को पूरा करने के लिए पूर्व सोवियत गणराज्यों को रूस से जोडऩे की कोशिश पुतिन करेंगे 2007 में जॉर्जिया और इस वर्ष यूक्रेन पर रूस के हमलों को देखते हुए ये आशंका बेबुनियाद नहीं है। इसीलिए पुतिन की नई नीति ने पश्चिम के कान खड़े कर दिए हैं।

https://jandhara24.com/news/102083/international-yoga-day-many-celebrities-including-home-minister-sahu-mp-saroj-pandey-did-yoga-gave-these-messages/
Putin’s dream रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने विदेश नीति संबंधी एक नए सिद्धांत की घोषणा की है। इसका मकसद ‘रूसी दुनिया’ की अवधारणा को साकार करना है। पुतिन ने 31 पेज का एक दस्तावेज जारी किया है। उसे “मानवता नीति” कहा गया है। यूक्रेन पर हमले के छह महीनों बाद पुतिन ने ये नीति जारी की है।

इसमें कहा गया है कि रूस अब “रूसी दुनिया के विचारों और परंपराओं को आगे बढ़ाएगा। नीति-दस्तावेज कहता है कि विदेशों में बसे रूसियों के साथ संबंध ने रूस को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ऐसे लोकतांत्रिक देश की छवि प्रदान की है, जो एक बहुपक्षीय दुनिया बनाने के लिए प्रयासरत है।

Putin’s dream  गौरतलब है कि इसमें कहा गया है कि सोवियत संघ का विघटन एक त्रासदी थी। उस कारण रूसी मूल के ढाई करोड़ लोगों का रूस से बाहर चले जाना दुखद था। 1991 में सोवियत संघ 11 मुल्कों में बंट गया था। इसे पुतिन ने भोगौलिक तबाही कहा है। रूस की नई नीति कहती है कि देश के नेतृत्व को स्लाविक देशों, चीन और भारत के साथ सहयोग बढ़ाना चाहिए।

Putin's dream
Putin’s dream पुतिन का यह सपना!

Putin’s dream  साथ ही पश्चिम एशिया, दक्षिण अमेरिका और अफ्रीका के साथ अपने संबंध और मजबूत करने चाहिए। क्या रूसी दुनिया नाम की इस अवधारणा के साथ पुतिन पूर्व सोवियत संघ को पुनर्स्थापित करना चाहते हैं ये कयास अब दुनिया में लगाए जा रहे हैं। इस कयास का ठोस आधार है। कुछ वर्ष पहले पुतिन ने कहा था कि बीसवीं सदी की शुरुआत में रूस की आबादी 17 करोड़ थी, जबकि धरती की आबादी एक अरब थी।

Countdown for Cheetah’s return भारत में चीते की वापसी की उलटी गिनती शुरू

यानी ग्रह पर रहने वाला हर सातवां व्यक्ति रूसी साम्राज्य में रहता था। आज देश की आबादी 14 करोड़ है, जबकि धरती की आबादी छह अरब हो चुकी है। यानी हर 50वां व्यक्ति रूसी है। तो क्या अब उस कमी को पूरा करने के लिए पूर्व सोवियत गणराज्यों को रूस से जोडऩे की कोशिश पुतिन करेंगे ये आशंका बेबुनियाद नहीं है। इसीलिए पुतिन की नई नीति ने पश्चिम के कान खड़े कर दिए हैं।

 

Putin's dream
Putin’s dream पुतिन का यह सपना!

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *