aajkijandhara

Transfer ट्रांसफर के नाम पर महिला कर्मचारी को अपने पास बुलाने का ऑडियो सोशल मिडिया पर वायरल

(Prime Minister Narendra Modi) कभी पिछड़े देशों की सूची में था,आज दुनियां का नेतृत्व कर रहा भारत:-ज्योतिरादित्य राजे सिंधिया

(Prime Minister Narendra Modi)

(Prime Minister Narendra Modi) ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट के सफल आयोजन

(Prime Minister Narendra Modi) भोपाल । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में दुनिया में भारत का मान बढ़ रहा है। आज दुनिया के अधिकांश देश भारत की ओर आशा भरी दृष्टि से देख रहे हैं। कभी बीमारू राज्य रहा मध्यप्रदेश भी अब तेजी से विकास के रास्ते पर चल पड़ा है। इंदौर में प्रवासी भारतीय सम्मेलन और ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट के सफल आयोजन के साथ मध्यप्रदेश ने सारी दुनिया में अपनी श्रेष्ठता स्थापित की है। ऐसे में पार्टी कार्यकर्ता भी अपनी भूमिका पर विचार करें।

आगामी चुनावों में पार्टी को ऐतिहासिक जीत दिलाकर अपनी ताकत बढ़ाएं और पार्टी के पितृ पुरुषों के सपनों को साकार करें। यह बात केंद्रीय मंत्री नरेंद्रसिंह तोमर एवं ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पार्टी की प्रदेश कार्यसमिति बैठक के उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए कही।
निवेशकों को आकर्षित कर रही प्रदेश की अनुकूलता, गुड गवर्नेंस : नरेंद्रसिंह तोमर

(Prime Minister Narendra Modi) बैठक को संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री नरेंद्रसिंह तोमर ने कहा कि मध्यप्रदेश में आज विकास का जो वातावरण है, उसे देखकर हम गर्व के साथ यह कह सकते हैं कि प्रदेश विकसित राज्यों की कतार में अपने कदम बढ़ा रहा है। लेकिन प्रदेश की यह स्थिति हमेशा से नहीं है। 2003 के पहले मध्यप्रदेश एक बीमारू राज्य था। भाजपा सरकार बनने के बाद मुख्यमंत्री के रूप में सुश्री उमा दीदी, स्व. बाबूलाल गौर और शिवराजसिंह चौहान ने प्रदेश को आगे बढ़ाया। प्रदेश में सडक़ों की हालत खराब थी, बिजली के अभाव में उद्योगपति प्रदेश छोडऩे का मन बना रहे थे।

भाजपा की सरकार बनने के बाद यह महसूस किया गया कि प्रदेश में निवेश आए, इसके लिए जरूरी है कि यहां अच्छा इन्फ्रास्ट्रक्चर हो, गुड गवर्नेंस हो और बिजली-पानी की उपलब्धता हो। भाजपा सरकार ने इस दिशा में प्रयास शुरू किए। उसी का नतीजा है कि 2003 के पहले जहां प्रदेश में सिर्फ 2900 मेगावाट बिजली का उत्पादन होता था, अब 26000 मेगावाट बिजली का उत्पादन हो रहा है।

प्रदेश में पहले जहां सिर्फ 7 लाख हेक्टेयर में सिंचाई होती थी, अब बढक़र 42 लाख हेक्टेयर में सिंचाई होने लगी है और प्रदेश सरकार ने 65 लाख हेक्टेयर में सिंचाई का लक्ष्य तय किया है। मध्यप्रदेश की अच्छी सडक़ों की चर्चा पूरे देश में हो रही है। मध्यप्रदेश अब निवेशकों के लिए सबसे अनुकूल है। यहां जरूरी इन्फ्रास्ट्रक्चर और गुड गवर्नेंस है। इंदौर में आयोजित ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट की सफलता में भी प्रदेश की इस अनुकूलता की महत्वपूर्ण भूमिका रही है।

प्रदेश में होगा 15.40 लाख करोड़ का निवेश, पैदा होंगे 29 लाख रोजगार

केंद्रीय मंत्री श्री तोमर ने इंदौर में आयोजित ग्लोबल इंन्वेस्टर्स समिट की चर्चा करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक वैश्विक नेता के रूप में स्थापित हो चुके हैं और भारत संघाई को-ऑपरेशन तथा जी-20 की अध्यक्षता कर रहा है। दुनिया में देश के इस बढ़ते प्रभाव का असर ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट पर भी दिखाई दिया। इस समिट में 84 देशों के प्रतिनिधि शामिल हुए।

मुख्यमंत्री जी ने 100 से अधिक प्रतिनिधियों से मुलाकात की। यही वजह है कि इस समिट में 15.40 लाख करोड़ से अधिक के करार हुए, जो एक बड़ी सफलता है। इतने निवेश से प्रदेश में 29 लाख रोजगार पैदा होंगे। केंद्रीय मंत्री श्री तोमर ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी के नेतृत्व में भारत विश्वगुरु बनने की ओर बढ़ रहा है। भारत की यह विकास यात्रा जारी रहे, इसके लिए जरूरी है कि पार्टी कार्यकर्ता अपनी ताकत बढ़ाएं और आने वाले चुनावों में फिर भाजपा को जिताएं, फिर मोदी सरकार बनाएं।

मध्यप्रदेश ने रचा सफल कार्यक्रमों का इतिहास: ज्योतिरादित्य सिंधिया

प्रदेश कार्यसमिति बैठक में वृत्त निवेदन प्रस्तुत करते हुए केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि मध्यप्रदेश को केंद्र की ओर से जो भी जिम्मेदारी दी गई, उसे उसने पूरा किया है। चाहे प्रवासी भारतीय सम्मेलन हो या जी-20 की मीटिंग, मध्यप्रदेश ने सफल कार्यक्रमों का इतिहास रच दिया है। उन्होंने कहा कि इंदौर में 8 से 10 जनवरी तक आयोजित प्रवासी भारतीय सम्मेलन एक ऐतिहासिक कार्यक्रम बन गया है। इस दौरान प्रवासी दिवस का आयोजन भी किया गया, जिसका फोकस मध्यप्रदेश पर था।

इस सम्मेलन के दौरान प्रवासी भारतीयों को आम लोगों के घरों में रुकवाया गया है और उन्होंने मध्यप्रदेश की आर्थिक तथा सांस्कृतिक शक्ति का अनुभव किया। श्री सिंधिया ने कहा कि दुनिया के विभिन्न देशों में रह रहे 3.5 करोड़ भारतीय मूल के लोगों ने भारत के प्रति दुनिया के रुख को बदला है। माइक्रोसॉफ्ट और गूगल के सीईओ से लेकर ब्रिटिश प्रधानमंत्री तक भारतीय मूल के हैं और इन प्रवासी भारतीयों ने सारी दुनिया में भारत का झंडा थाम रखा है।

भारत से बाहर रह रहे इन भारतीयों ने हर कठिनाई में देश की मदद की है। चाहे 1998 में परमाणु परीक्षण के बाद देश पर लगे प्रतिबंध हों, रूस-यूक्रेन युद्ध के दौरान वहां फंसे भारतीय छात्रों को निकालने की घटना हो, या अन्य कोई संकट, इन प्रवासियों ने भारत को उबारने में कोई कसर नहीं छोड़ी। आज देश की जीडीपी की 3.5 राशि प्रवासी भारतीयों द्वारा भेजे जाने वाले रेमिटेंस से मिलती है।

कभी पिछड़े देशों की सूची में था, आज दुनिया का नेतृत्व कर रहा भारत

(Prime Minister Narendra Modi) केंद्रीय मंत्री श्री सिंधिया ने कहा कि भारत जो कभी गरीब और पिछड़े देशों की सूची में शामिल था, आज दुनिया का नेतृत्व कर रहा है। यह अद्भुत काम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में पिछले आठ सालों में हुआ है। भारत जी-20 की अध्यक्षता कर रहा है। जी-20 के महत्व का अंदाज इस तथ्य से लगाया जा सकता है कि दुनिया की अर्थव्यवस्था का 75 फीसदी हिस्सा जी-20 देशों के हाथों में है। इन देशों में दुनिया की 85 फीसदी आबादी रहती है और इनका नेतृत्व भारत कर रहा है।

(Prime Minister Narendra Modi) सिंधिया ने कहा कि हर कठिनाई के समय दुनिया भारत और मोदी जी की ओर देखती है। मोदी जी के नेतृत्व में भारत ने कोरोना संकट के समय दो-दो वेक्सीन बनाकर दुनिया के 100 से अधिक देशों में जिंदगियां बचाने का काम किया। चाहे वह सोलर अलाइंस की सोच हो, या जलवायु परिवर्तन की चिंता, भारत का झंडा और भारतमाता का नाम मोदी जी के नेतृत्व में सारी दुनिया में चमक रहा है। श्री सिंधिया ने कहा कि हमने बीता वर्ष स्व. कुशाभाऊ ठाकरे के जन्मशताब्दी वर्ष के रूप में मनाया है। आने वाले चुनावों में हमें स्व. कुशाभाऊ के नारे ‘संगठन गढ़े चलो, बढ़े चलो-बढ़े चलो’ को साकार करते हुए आगे बढऩा है और पार्टी के पितृपुरुषों के संकल्पों को साकार करना है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *