breaking news New

Breaking जेवर एयरपोर्ट से चुनावी उड़ान भरने की तैयारी में भाजपा

Breaking जेवर एयरपोर्ट से चुनावी उड़ान भरने की तैयारी में भाजपा

डिफेंस काॅरीडोर के बाद जेवर में अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के शिलान्यास से विकास पर आधारित राजनीति की गहरी छाप छोड़ने  भाजपा का अभियान तेज 

जेवर (गौतमबुद्ध नगर)।  भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने उत्तर भारत की आर्थिक प्रगति के इंजन के रूप में देखे जा रहे उत्तर प्रदेश के गौतमबुद्ध नगर के जेेवर में बनने वाले नोएडा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के निर्माण के साथ उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में भी विकास के नाम पर सफलता की उड़ान भरने की तैयारी कर ली है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी गुरुवार को अपराह्न यहां एशिया के सबसे बड़े ‘नोएडा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे’ (एनआईए) की आधारशिला रखेंगे। भाजपा उत्तर प्रदेश के पश्चिमी इलाके में अपनी पकड़ मजबूत बनाने के लिये इस हवाई अड्डे को ‘विकास के गेटवे’ के रूप में पेश कर रही है।

हवाई अड्डे के पहले चरण का काम शिलान्यास के 1095 दिनों में पूरा करके सरकार ने 29 सितंबर 2024 को यहां से विमान सेवाओं का परिचालन आरंभ करने का लक्ष्य तय किया है। हाईप्रोफाइल शिलान्यास कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, केन्द्रीय नागर विमानन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह, गौतमबुद्धनगर के सांसद डॉ. महेश शर्मा, अलीगढ़ के सांसद सतीश गौतम आदि मौजूद रहेंगे।

इस मौके पर केन्द्र और राज्य में भाजपा की सरकार के विकास कार्यों की झांकी पेश करने के लिये एक विशाल जनसभा का आयोजन भी किया गया है। अलीगढ़ में जाट राजा महेंद्र प्रताप सिंह विश्वविद्यालय के उद्घाटन के बाद प्रधानमंत्री मोदी की हाल के दिनों में पश्चिमी उत्तर प्रदेश में यह दूसरी बड़ी रैली होगी। इसका संदेश बिल्कुल साफ है पश्चिमी उत्तर प्रदेश में भाजपा की पकड़ को मजबूत बनाना।

उम्मीद है कि तीन विवादास्पद कृषि कानूनों की वापसी के निर्णय के बाद होने वाली इस पहली रैली में मोदी विपक्ष की आंदोलन की राजनीति पर महत्वपूर्ण टिप्पणी कर सकते हैं। प्रेक्षकों का मानना है कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश में एक रैली में जाट फैक्टर को साधने, बाद में गन्ना किसानों के लिए गन्ने का मूल्य बढ़ाने और कृषि कानून वापस लेने के बाद अब मोदी किसानों के मुद्दे पर कोई अहम घोषणा कर सकते हैं।

उत्तर प्रदेश में प्रधानमंत्री के हाल के चुनावी कार्यक्रमों से साफ है कि भाजपा उत्तर प्रदेश की सत्ता में वापसी के लिये कोई कसर बाकी नहीं छोड रही है। अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के समानांतर राजा महेंद्र प्रताप सिंह विश्वविद्यालय, कुशीनगर में अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा, सुल्तानपुर में पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे, महोबा में जल परियोजनाएं और अब झाँसी में डिफेंस काॅरीडोर के बाद जेवर में अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के शिलान्यास से विकास पर आधारित राजनीति की गहरी छाप छोड़ने का भाजपा ने अभियान तेज कर दिया है।

वाराणसी में काशी विश्वनाथ काॅरीडोर का काम काफी प्रगति पर है। 13-14 दिसंबर से एक माह तक काशी में सांस्कृतिक कार्यक्रम की तैयारी चल रही है।

इस तरह से देखा जाए तो साफ है कि सड़क, हवाई अड्डा, डिफेंस काॅरीडोर, संस्कृति, इतिहास और ऐतिहासिक नायक नायिकाओं, हर बात को चुनावी औजार के रूप में बखूबी इस्तेमाल किया जा रहा है।