breaking news New

तालाबों में कूड़ा, नहीं हो रही सफाई, बदबू से लोग हो रहे परेशान

तालाबों में कूड़ा,  नहीं हो रही सफाई,  बदबू से लोग हो रहे परेशान

चंद्र प्रकाश साहू/सुरजपुर। सुरजपुर नगर पालिका ने स्वछ्ता व सफाई की चाक चौबन्ध दिखा कर प्रदेश में 12 वां स्थान प्राप्त कर जिले का मान तो बढ़ाया है। पर अभी भी नगर पालिका के ज़्यादातर वार्डों में कचरा का अंबार है। चारो तरफ गंदगी पसरी हुई है। डोर डोर कचरा एकत्रित करने के बाद भी आम जन कचरा बाजारो, चौक चौराहों में फेंक रहे है। यहां तक मन नही भरा तो अब कचरा तालाबों में भी फेंका जा रहा है। 

सुरजपुर जिला मुख्यालय नगर पालिका में जिले के तमाम अफशर होने के बाद भी नगर पालिका हमारे धरोहरों को संभाल नही पा रही है। आस्था केंद्र माने जाने पूर्व छठ घाट तालाब में अब पूजा पाठ नही होती है। पर दशगगात्र का कार्यक्रम होता है। अब इस तालाब में घरों से निकलने वाले दूषित पानी को तालाब में बहाने का स्थान बना दिया गया है। तालाबों के पानी इस कदर गन्दा है कि भैंस, सुवर मवेशी भी अब तालाब की ओर पानी पीने, पगुराने जाने से कतराने लगे है।

बदबू से आदमी बेहाल हो रहा है। मुर्गे मक्ष्ली, मटन के व्यपारी चाह कर भी तालाब को गन्दा होने से नही बचा पा रहे है। मांस के विक्रेताओं ने बताया कि मक्ष्ली, मुर्गा, बकरा से निकलने वाले मल, अवशेष का कम क्या करेंगे, घर तो लेजा सकते नही है। इस कारण तालाब किनारे में ही फेंक देते है नगर पालिका इन कचरों के फेंकने के लिए डस्ट बिन देता तो वहीं फेंकते तो तालाब सुंदर तो नही होता किन्तु और गन्दा तो नही होता। नगर पालिका और जिला प्रशासन चाहे तो इस जगह को रायपुर के मैरीन ड्राइव, अम्बिकापुर की तर्ज पर सुंदर मनमोहक बनाया जा सकता है।

जिससे लोग तो समय व्यतीत करने आएंगे ही इसके साथ हमारी धरोहर को और सूरजपुर को एक अलग पहचान के रूप में आएगी जो आने वाले वर्षों में मिलने वाले अवार्ड में 1 से 5 नम्बर के बीच का अवार्ड के लिए भी चयन हो सकता है। इस सम्बंध में सामाजिक कार्यकर्ता दीपक कर ने कहा कि धरोहर को बचाने की जवाबदारी नगर प्रशासन की है। किंतु इस ओर ध्यान नही दिया जा रहा है। साथ ही जनप्रतिनिधियों ने इस ओर कोई ठोस कदम नही उठा रहे है ताकि हमारा धरोहर साफ सुथरा बना रहे। इस मामले में प्रशासन ने जल्द ही कुछ नही किया तो हम तालाब धरोहर बचाओ सत्याग्रह करने के लिए बाध्य होंगे। 

सीएमओ जोत्सना टोप्पो ने कहा कि तालाबो का पानी टेस्ट के लिए भेजा गया था। पानी पशुओ के पीने व अन्य उपयोगी के लिए नही हैं। जल्द ही सफाई के लिए कार्ययोजना बनाई जाएगी साथ ही तालाब में घरों का पानी जाने की जानकारी आप लोगों के द्वारा मिल रही है। दिखवा लेती हूँ।