breaking news New

VIDEO पूर्व मंडल अध्यक्ष ने भाजपा जिला अध्यक्ष पर लगाए गंभीर आरोप

VIDEO पूर्व मंडल अध्यक्ष ने भाजपा जिला अध्यक्ष पर लगाए गंभीर आरोप


बीजापुर।  नगरी निकाय चुनाव का बिगुल बजते ही राजनीतिक दलों के नेताओं के बीच बयान बाजी और खीचतान का जोर सोशल मीडिया पर छाया हुआ है। एक ओर जहां कांग्रेस और भाजपा दोनों ही जोर शोर के साथ कार्यकर्ताओं को पार्टी में प्रवेश कराने में लगे है तो वहीं दूसरी ओर अपनी की राजनीति पार्टी में अंदरूनी कलह को रोकने में भी नाकामी हो रहे है, राजनीति दलों को जिसके असर सीधा सोशल मीडिया पर आ जा रहा है।

सोमवार के भाजपा जिला अध्यक्ष ने पूर्व मंडल अध्यक्ष नकुल ठाकुर को अनुहीनता गतिविधि में होने का कारण बताते हुए भाजपा पार्टी सदस्य से निष्कासित करते हुए प्राथमिक सदस्यता से समाप्त कर दिया ।

         भाजपा से निष्कासित पूर्व मंडल अध्यक्ष ने भी बुधवार प्रेस विज्ञप्ति जारी करते हुए भाजपा जिला संगठन का मोर्चा खोल दिया है वही कांग्रेस पार्टी भी पीछे नही है युवा आयोग के सदस्य ने भी  सोशल मीडिया के माध्यम से नगरी निकाय चुनाव में दूरी बनाने की बात कही है ।

 पूर्व मंडल अध्यक्ष नकुल ठाकुर को जिला भाजपा संगठन से निष्कासित करने के बाद  प्रेस विज्ञप्ति जारी करते हुए उन्होंने कहा कि मैं  पूर्व मंडल अध्यक्ष तीन बार रहा चुका हूं।  मुझे कोई भी भाजपा में दायित्व नहीं दिया गया उसके बावजूद भी भाजपा संगठन पार्टी से निष्कासित किया गया हूँ। 

जबकि मैंने कोई भी पार्टी के विरोध में काम नहीं किया।  भाजपा पार्टी से निष्कासित करने से पहले ना ही जिला भाजपा ने कारण बताओ नोटिस भी जारी नही दिया ऐसा ही तानाशाही रवैया के चलते भाजपा के पुराने वरिष्ठ कार्यकर्ता ने भाजपा संगठन से दूरी बना के रखा हुआ है न ही कार्यकर्ताओं को  कार्यक्रमो में नही बुलाया जाता है ।

भाजपा जिलाध्यक्ष इन दिनों पूर्व मंत्री  का रिमोट कंट्रोल हो गए है जो पूर्व मंत्री  कहते हैं वैसे ही भाजपा जिला अध्यक्ष श्रीनिवास मुदलियार जीकरते हैं क्योंकि पूर्व वन मंत्री ने भाजपा जिलाध्यक्ष को नोटरी बनाया था इसीलिए भाजपा जिला अध्यक्ष ने पूर्व मंत्री  को भाजपा की ओर से प्रत्याशी बनाने के लिए पुराने कार्यकर्ताओं को पार्टी के गतिविधियों में नहीं बुलाते न ही बैठो का सूचना पुराने कार्यकर्ताओं को देते है।   

       पूर्व मंडल अध्यक्ष ने बताया की भाजपा जिला अध्यक्ष ने अनुशासनहीनता  का आरोप लगते हुए मुझे ही भाजपा सगंठन से निष्कासित किया है जो की निराधार है मैं कार्यकर्ताओं को जोड़ने का काम किया ना कि तोड़ने का ।भाजपा जिला अध्यक्ष श्रीनिवास जी का  हुजूरी करने वाले कार्यकर्ताओं को भाजपा जिला अध्यक्ष ने पदाधिकारी बनाया उन कार्यकर्ताओं निष्कासित नहीं किया ।

बीते वर्ष नगरी निकाय और पंचायती चुनाव संपन्न हुआ था उस चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के विरोध में जिला पंचायत के लिए श्यामलाल,जनपद पंचायत में फूलचंद गागड़ा ने जनपद पंचायत सदस्य ,छोटू पुजारी ने पार्षद पद के लिए चुनाव लड़ा था जो चुनाव मे हार गए।

भाजपा पार्टी के विरोध में चुनाव लड़ने वाले इन  प्रत्याशियों के ऊपर ना  जिलाध्यक्ष ने  कार्यवाही किया ना ही  भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता से निष्कासित  किया क्योंकि   भाजपा जिला अध्यक्ष और पूर्व वन मंत्री का विरोध ना कर सके ऐसे ही कार्यकर्ताओं को भाजपा में पदाधिकारी बनाया गया है जो भाजपा जिला अध्यक्ष और पूर्व वन मंत्री जी का जी हुजूरी करते रहे इनके  इशारे पे काम करते रहे ।

पुराने भाजपा कार्यकर्ताओं को साइड कर दिए गए है ताकि पुराने कार्यकर्ता ही नया विधायक प्रत्याशी की मांग न कर करे। पुराने कार्यकर्ताओं को किसी भी प्रकार का कार्यक्रम होता है उस कार्यक्रम में जो कार्यकर्ता नए प्रत्याशी की बात करता है उस कार्यकर्ता को भाजपा पार्टी से निष्कासित करने के लिए षडयंत्र पूर्वक भाजपा से निष्कासित करने  की तैयारी में लगे रहते हैं ।

जिसकी वजह से इन दिनों जिला भाजपा के संगठन का हाल बेहाल करते हुए संगठन का सत्यनाश कर दिए है जिसकी वजह से जिला पंचायत चुनाव में 10 सदस्य में से दो जिला पंचायत सदस्य , नगर पालिका में 15 में से 3 पार्षद जीत कर आए और चारो जनपद पंचायत में भी भाजपा को करारी हार का मुंह देखना पड़ा ।