breaking news New

टी-20 वर्ल्ड कप: वेस्टइंडीज और साउथ अफ्रीका के बीच मुकाबला, जानिए-किस टीम में है ज्यादा अनुभव

टी-20 वर्ल्ड कप: वेस्टइंडीज और साउथ अफ्रीका के बीच मुकाबला, जानिए-किस टीम में है ज्यादा अनुभव

दुबई। टी-20 वर्ल्ड कप में मंगलवार में साउथ अफ्रीका और वेस्टइंडीज की भिड़ंत होगी। दोनों टीमों अपना-अपना पहला मैच हार चुकी है। दोनों ही टीमें अपने पहले मैच में हार के बाद पहली जीत हासिल करने के इरादे से उतरेगी। साउथ अफ्रीका को अपने पहले मैच में ऑस्ट्रेलिया से हार का सामना पड़ा था जिसने उसे उसे पांच विकेट से मात दी थी। वहीं दूसरी बार मौजूदा चैंपियन वेस्टइंडीज को इंग्लैंड की टीम ने 6 विकेट से मात दी थी।

साउथ अफ़्रीका शनिवार को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 118/9 का स्कोर ही बना सका और लगातार सात जीत का उसका सफर थम गया। इससे पहले पिछली बार जुलाई में वेस्टइंडीज के खिलाफ साउथ अफ्रीका को हार मिली थी। वेस्टइंडीज की टीम सुपर 12 के पहले मैच में इंग्लैंड के खिलाफ सिर्फ 55 रन पर आउट हो गई थी। हालांकि, इस फॉर्मेट की मौजूदा वर्ल्ड चैंपियन टीम के पास काफी फायर पावर है और वह वापसी कर सकती है।

वेस्टइंडीज को करना पड़ सकता है अप्रोच में बदलाव

इंग्लैंड के खिलाफ वेस्टइंडीज से सिर्फ एक बल्लेबाज क्रिस गेल ही दोहरे अंक तक पहुंचे थे। टॉप सात में से छह कैरेबियन बल्लेबाज इंग्लैंड के हवा में शॉट खेलकर आउट हुए थे। इस बार टीम अपना अप्रोच बदल सकती है और कंडीशंस का सम्मान करते हुए सॉट सिलेक्शन पर जोर दे सकती है।

पावर प्ले में उपयोगी साबित होते हैं महाराज

केशव महाराज साउथ अफ्रीका की टी-20 टीम में अब स्थाई जगह बना चुके हैं। वे पावर प्ले में बेहतरीन नियंत्रण के साथ गेंदबाजी करते हैं और वेस्टइंडीज के बल्लेबाजों को परेशानी में डाल सकते हैं। इसके अलावा उनका इस्तेमाल मिडिल ओवर्स में भी किया जाता है।

टीम न्यूजः फॉर्म में नहीं हैं मिलर और क्लासेन

साउथ अफ्रीका के पास बेंच पर मिडिल ऑर्डर बल्लेबाज नहीं हैं। इस कारण खराब फॉर्म के बावजूद डेविड मिलर और हेनरिक क्सासेन को ड्रॉप करना मुश्किल होगा। साउथ अफ्रीका की टीम के पास यह विकल्प जरूर है कि टॉप ऑर्डर में रीजा हेनड्रिक्स की एंट्री करे और एडेन मार्करम को बैटिंग ऑर्डर में नीचे भेजे।

पिच एंड कंडीशंस

दुबई में ही वेस्टइंडीज की टीम 55 रन पर ढेर हुई थी। हालांकि, यहीं भारत और पाकिस्तान के बीच हुए मुकाबले में कुल 300 से ज्यादा रन बने। दोनों टीमों के बल्लेबाजों को खुद को अप्लाई करना होगा। फिर 150-160 रन का स्कोर बनाया जा सकता है। ओस गिरने के कारण बाद में बल्लेबाजी करने वाली टीम फायदे में होगी।