19.2 C
Chhattisgarh

Navratri 2022 Day 4 : चौथे दिन की जाती है माता कुष्मांडा की पूजा, जरूर पढ़ें यह कथा, आरती और करे इन मंत्रों का जाप

NationalNavratri 2022 Day 4 : चौथे दिन की जाती है माता कुष्मांडा की पूजा, जरूर पढ़ें यह कथा, आरती और करे इन मंत्रों का जाप

Navratri 2022 Day 4 : चौथे दिन की जाती है माता कुष्मांडा की पूजा, जरूर पढ़ें यह कथा, आरती और करे इन मंत्रों का जाप

Navratri 2022 Day 4 : चौथे दिन की जाती है माता कुष्मांडा की पूजा, जरूर पढ़ें यह कथा, आरती और करे इन मंत्रों का जाप

Navratri 2022 Day 4 : हिंदू कैलेंडर के अनुसार आज 29 सितंबर को नवरात्रि का चौथा दिन है और यह दिन मां दुर्गा के कुष्मांडा स्वरूप को समर्पित है. इस दिन विधि-विधान से माता कुष्मांडा की पूजा की जाती है। ऐसा माना जाता है

Navratri 2022 Day 4 : कि आठ भुजाओं वाली माता कुष्मांडा अपने भक्तों के सभी कष्टों और कष्टों का नाश करती हैं। अगर आप भी मां कूष्मांडा की कृपा पाना चाहते हैं तो उनकी व्रत कथा, आरती और कुछ (नवरात्रि व्रत नियम) मंत्रों का जाप अवश्य करें।

मां कुष्मांडा पूजा विधि

Navratri 2022 Day 4 : नवरात्रि का चौथा दिन मां कुष्मांडा को समर्पित होता है और उन्हें सफेद रंग बहुत प्रिय है। इसलिए सुबह स्नान आदि करने के बाद सफेद वस्त्र धारण कर हाथ में जल लेकर व्रत का संकल्प करें।

Also read  :Sports : नागालैंड के खेलों में क्या खराबी ?

इसके बाद मंदिर में स्थापित कलश की पूजा करें और फिर मां दुर्गा की मूर्ति की पूजा करें. पूजा के बाद मां कूष्मांडा की व्रत कथा और आरती का पाठ करें।

मां कूष्मांडा के व्रत कथा

दुर्गा का चौथा रूप कुष्मांडा मां का है। उसकी आठ भुजाएँ हैं। कमंडल, धनुष, बाण, चक्र, गदा, अमृत कलश, कमल का फूल, सिद्धियाँ और धन देने वाली माला है। यह एक पौराणिक मान्यता है

Also read  :Rashifal 29 september : नवरात्री का चौथा दिन, क्या कहते हैं आपके सितारे? कैसा रहेगा आपका आज का दिन!

कि जब ब्रह्मांड का अस्तित्व नहीं था, तब मां ने ब्रह्मांड की रचना की और ब्रह्मांड का आदि रूप और आदिशक्ति बन गई। वह एकमात्र मां हैं जो सौरमंडल के आंतरिक जगत में निवास करती हैं। इनकी पूजा करने से व्यक्ति अपने कष्टों और पापों को दूर कर सकता है।

मां कुष्मांडा की आरती

कुष्मांडा जय जग सुखदानी।
मुझ पर दया करो रानी

पिगनाला ज्वालामुखी अद्वितीय है।
शाकंबारी मां भोली भाली

आपके लिए लाखों नाम अद्वितीय हैं।
आपके भक्तों के पास बहुत वोट हैं।

शिविर भीम पर्वत पर है।
मेरा सलाम स्वीकार करें

जगदम्बा सबकी सुनते हो।
मां अम्बे तक पहुंचती है खुशियां

मैं आपके दर्शन का प्यासा हूँ।
मेरी आशा पूरी करो

माँ के दिल में प्यार भारी है।
अराज हमारी बात क्यों नहीं सुनेगा?

अपने हिसाब से डेरा डाला है।
मेरी माँ की परेशानी दूर करो

मेरे कार्यों को पूरा करो।
तुम मेरा भंडार भरो

केवल आपका सेवक ही आपकी देखभाल करे।
भक्तों को सिर झुकाना चाहिए।

कुष्मांडा देवी मंत्र:
या देवी सर्वभूतु मां कुष्मांडा रूपेन संस्था।
नमस्ते नमस्तस्य नमस्तस्य नमो नमः।

वंदे ने कामार्थे चंद्रघाकृत शेकरम को चाहा।
सिंहरुधा अष्टभुजा कुष्मांडा यशस्वनिम्

भास्वर भानु निभाना अनाहत स्थिति चतुर्थ दुर्गा त्रिनेत्रम।
कमंडल, चाप, तीर, पद्मसुधाकलश, चक्र, गदा, जापवतीधरम।

पाटाम्बर वेशभूषा कमेनिया सॉफ्टहुस्या ननालंकार भूशितम।
मंजिर, हार, केयूर, किन्किनी रत्न कुंडल, मंडीटाम

प्रफुल्ल वदनांचरु चिबुकान कांत कपोलन तुंग कुचम।

 

Check out other tags:

Most Popular Articles