1 July, Mahamrityunjay मंत्र के जाप से टल जाता है अकाल मृत्यु का खतरा, जानें इसके फायदे और विधि

Mahamrityunjay मंत्र के जाप से टल जाता है अकाल मृत्यु का खतरा,
  1. Mahamrityunjay मंत्र के जाप से टल जाता है अकाल मृत्यु का खतरा,

  2. भगवान शिव की भक्ति के लिए सोमवार का दिन श्रेष्ठ माना जाता है.

हर देवी-देवता को कोई न कोई दिन समर्पित है. लेकिन देवी-देवताओं के कुछ कार्य ऐसे हैं,

Also read : https://jandhara24.com/news/104383/breaking-thackeray-removed-eknath-shinde-from-the-post-of-shiv-sena-leader-know-what-allegations-have-been-made/

जिन्हें नियमित रूप से किए जाने से लाभ होता है. इनमें से एक भगवान शिव का Mahamrityunjay मंत्र भी है.

Mahamrityunjay मंत्र को लेकर पुराणों में मान्यता है कि नियमित रूप से इस मंत्र जाप करने वाले व्यक्ति को अकाल मृत्यु से छुटकारा मिलता है.

कहते हैं कि दीर्घायु के लिए इस मंत्र का जाप किया जाता है.

Also read : 2 July, Jagdalpur News : बस्तर पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, विस्फोटक सामग्री पहुंचाने वाले 9 लोगों को किया गिरफ्तार

इससे शिव जी प्रसन्न होकर भक्तों को लंबी आयु का वरदान देते हैं. आइए जानते हैं इसके लाभ और विधि के बारे में.

Mahamrityunjay मंत्र 

मंत्र- ॐ त्र्यम्बक यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धन्म। उर्वारुकमिव बन्धनामृत्येर्मुक्षीय मामृतात् !!

Mahamrityunjay मंत्र का जाप विधि

– मंत्र जाप की शुरुआत करने से पहले स्नान आदि से निवृत्त होकर भगवान शिव के समक्ष उस कार्य को दोहराएं, जो करना है. फिर महामृत्यंजय मंत्र का जाप करें.

– इसके बाद शिवलिंग के सम्मुख खड़े होकर 1 लाख या अपनी श्रद्धा अनुसार मंत्रों के जाप का संकल्प लें.

– मृत्युंजय मंत्र का जाप रुद्राक्ष की माला से किया जाता है. साथ ही, इस मंत्र की शुरुआत सोमवार के दिन से करनी चाहिए.

– इस बात का ध्यान रखें कि इस मंत्र का जाप दोपहर 12 बजे से पहले किया जाता है. मान्यता है कि 12 बजे के बाद इस मंत्र का जाप करने से फल की प्राप्ति नहीं होती.

Also read : https://jandhara24.com/news/104377/chhattisgarh-will-remain-closed-today-including-the-capital-raipur-also-got-the-support-of-chamber-of-commerce/

– अगर आप घर पर ही मंत्र की शुरुआत कर रहे हैं, तो पहले शिवलिंग की पूजा करें उसके बाद ही मंत्र जाप करें.

– अगर घर पर संभव न हो तो मंदिर में जाकर शिवलिंग का पूजन करें और फिर घर वापस आकर घी का दीपक जलाकर जाप करें.

– बता दें कि महामृत्युंजय मंत्र का जाप 11 माला लगातार 10 दिन तक करें. और ये पूरा होने के बाद हवन करें.

मृत्युंजय मंत्र का लाभ

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इस मंत्र का जाप ग्रहबाधा, ग्रहपीड़ा, रोग, जमीन-जायदाद का विवाद, धन हानि से बचने, वर वधू की कुंडली न मिलने पर किया जाता है.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

MENU