young boy के liver से कैसे निकाला गया मवाद, आइये पढ़ते है ये special खबर

young boy

liver यह सुविधा फिलहाल रायपुर और बिलासपुर जैसे बड़े शहरों में ही उपलब्ध

liver जगदलपुर । जगदलपुर के महारानी अस्पताल में पिग टेल पाइप कैथेटराइजेशन की शुरुआत के साथ स्वास्थ्य सुविधाओं के दृष्टिकोण से एक नए अध्याय की शुरुआत हुई है, जहां सर्जरी योग्य गंभीर बीमारियों का बिना सर्जरी के ही संभव हो गया है।

liver ज्ञात जानकारीनुसार छत्तीसगढ़ की सरकारी चिकित्सा संस्थाओं में से डॉ अंबेडकर भीमराव अंबेडकर अस्पताल रायपुर, अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान रायपुर एवं छत्तीसगढ़ आयुर्विज्ञान संस्थान बिलासपुर जैसी बड़ी बड़ी अस्पतालों में सोनोग्राफी द्वारा पिग टेल पाइप प्रक्रिया सामान्य तौर से की जाती है।

also read : liver Special judge ने छेड़खानी करने वाले आरोपी को सुनाया कठोर Punishment पढ़िए पूरी खबर

liver महारानी अस्पताल के सिविल सर्जन डॉ संजय प्रसाद ने बताया की सोनोग्राफी द्वारा पिग टेल पाइप प्रक्रिया की सुविधा संभाग में सबसे पहले उपलब्ध कराना महारानी अस्पताल के लिए एक बड़ी उपलब्धि है।

संभवतः छत्तीसगढ़ के जिला चिकित्सालय स्तर पर रेडियोलॉजी विभाग में पिग टेल पाइप द्वारा मवाद निकालने की प्रक्रिया सर्वप्रथम महारानी अस्पताल जगदलपुर में की गई है।

liver सरकारी संस्थाओं से अलग निजी संस्थाओं में यह प्रक्रिया बहुत ही महंगी होती है। यह बहुत ही उन्नत तकनीकी प्रक्रिया है जो की अब बस्तरवासियो को सहजता से कम से कम खर्चे में महारानी अस्पताल में उपलब्ध हो जाएगी।

https://jandhara24.com/news/102843/thieves-took-dbr-along-with-desi-masala-liquor/

बकावंड विकासखंड के 20 वर्षीय एक ऐसे ही युवक का सफल उपचार महारानी अस्पताल में किया गया, जिसके लिवर में मवाद भर गया था। 9 जून को अस्पताल में भर्ती युवक की सोनोग्राफी के दौरान रेडियोलॉजिस्ट डॉ मनीष मेश्राम द्वारा देखा गया कि लिवर में लगभग एक पाव मवाद है।

सर्जन डॉ दिव्या तथा रेडियोलॉजिस्ट डॉ मेश्राम द्वारा इस युवक के लिवर का मवाद सोनोग्राफी के और पतले पाइप के माध्यम से निकाला गया।

liver आमतौर पर शरीर के किसी अंग में मवाद भरने पर अंग के खराब होने तक की नौबत आ जाती है। ऐसे में हमारे शरीर के बहुमूल्य अंग को बचाने हेतु मवाद को बाहर निकालना एवं उसका उपचार करना लाज़मी हो जाता है ।

डॉ दिव्या (सर्जन) बतातीं है की ऐसे मवादो की अधिक मात्रा को बाहर निकालने के लिए ऑपरेशन का सहारा लेना पड़ता है, जिसमे पेट में चीरा लगाकर उक्त अंग तक पहुंचा जाता है और मवाद निकालने की प्रक्रिया की जाती है।

मरीज़ की शारीरिक अवस्थानुसार इस प्रक्रिया में कई बार साइड इफेक्ट भी देखने को मिलता है, किंतु अब सोनोग्राफी की आधुनिक पद्धति पिग टेल पाइप से केवल एक छोटी सी छिद्र करके पतली पाइप द्वारा मवाद को बाहर निकाला जा सकता है। यह प्रक्रिया इंटरवेंशनल रेडियोलॉजी के अंतर्गत आती है।

इंटरवेंशनल रेडियोलॉजी वर्तमान समय में चिकित्सा विभाग की अत्यधिक उन्नत, विशेष कुशलता एवं गुणवत्ता युक्त शाखा है । इसमें सीटी स्कैन एवं सोनोग्राफी की सहायता से शरीर की विभिन्न बीमारियों का इलाज केवल एक पतली पाइप ही की सहायता से कर दिया जाता है। इसमें सीटी स्कैन द्वारा दिमाग, पेट, हाथ या पैरों के रक्त की नसों की विभिन्न बीमारियों तथा सोनोग्राफी द्वारा पेट के विभिन्न बीमारियों का इलाज किया जाता है।

आरंभ में सोनोग्राफी का उपयोग केवल बीमारी का पता लगाने के उद्देश्य से ही किया जाता था किंतु बाद की निरंतर विकास की धारा से सोनोग्राफी का उपयोग कुछ बीमारियों जैसे अंगों में भरे मवाद, गुर्दे में पेशाब रूक जाना, यकृत में या पित्त की नली में रुकावट से पित्त न निकल पाने के इलाज के लिए उपयोग में करने की प्रक्रिया अपनाई गई।

शरीर के भीतर मवाद होने की पहचान सहजता से उपलब्ध सोनोग्राफी द्वारा शीघ्रता से की जा सकती है तथा उन्नत पद्धति से सोनोग्राफी के ही द्वारा केवल एक पतली पाइप के माध्यम से भीतरी अंगो से मवाद को लोकल एनेस्थेसिया देकर एक छोटी सी छिद्र करके निकल लिया जाता है।

इस प्रक्रिया को पिग टेल कैथेटराइजेशन कहते हैं। इस प्रक्रिया के लिए सोनोग्राफी की बहुत ही अच्छी ज्ञान एवं तजुर्बा होने की आवश्यकता होती है ताकि पाइप के सिरे को सटीक तौर पर बिना किसी अन्य अंग या नसों को नुकसान पहुंचाए, मवाद में ही ले जाया जा सके और मवाद बाहर निकाला जा सके।

सोनोग्राफी बहुत ही सहजता से उपलब्ध हो जाती है एवम इसके खर्चे भी बहुत कम होते है । पिग टेल से मवाद निकलने हेतु लोकल एनेस्थेसिया दिया जाता है जिसमे एनेस्थीसिया विशेषज्ञ की ज़रूरत नही पड़ती। इसमें मरीज को बेहोश नही किया जाता।

मरीज़ सचेत अवस्था में ही रहते है और उन्हें ज्यादा किसी दर्द का अहसास भी नहीं होता। पिग टेल पाइप की प्रक्रिया बहुत ही कम समय में पूरी हो जाती है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

MENU