breaking news New

बादशाहत कायम रखते हुए रोहित शर्मा की शानदार कप्तानी पारी के बदौलत मुंबई पांचवीं बार चैंपियन

 बादशाहत कायम रखते हुए रोहित शर्मा की शानदार कप्तानी पारी के  बदौलत मुंबई पांचवीं बार चैंपियन

दुबई।  मुंबई इंडियंस ने अपनी बादशाहत कायम रखते हुए तेज गेंदबाज ट्रेंट बोल्ट के 30 रन पर तीन विकेटों की बेहतरीन गेंदबाजी और कप्तान रोहित शर्मा की 68 रन की जबरदस्त पारी से दिल्ली कैपिटल्स को मंगलवार को एकतरफा अंदाज में पांच विकेट से पराजित कर पांचवी बार आईपीएल का चैंपियन बनने का गौरव हासिल कर लिया।

दिल्ली ने कप्तान श्रेयस अय्यर (नाबाद 65) और विकेटकीपर रिषभ पंत (56) के शानदार अर्धशतकों से आईपीएल-13 के खिताबी मुकाबले में 20 ओवर में सात विकेट पर 156 रन का चुनौतीपूर्ण स्कोर बनाया लेकिन यह स्कोर ऐसा नहीं था जो मुंबई का विजय रथ रोक पाता। मुंबई ने 18.4 ओवर में पांच विकेट पर 157 रन बनाकर खिताब अपने नाम कर लिया। पहली बार फाइनल खेल रही दिल्ली का नया आईपीएल चैंपियन बनने का सपना टूट गया।

मुंबई ने आईपीएल के 13 संस्करणों में पांच बार खिताब जीत लिया है और साबित किया है कि आईपीएल में उसके टक्कर की कोई दूसरी टीम नहीं है। मुंबई का यह छठा फाइनल था जिसमें से उसने पांच बार खिताब जीता है। मुंबई ने 2020 से पहले 2013, 2015, 2017 और 2019 में खिताब जीते थे। मुंबई ने पहली क्वालीफायर में दिल्ली को आसानी से हराया था और फाइनल में भी दिल्ली को आसानी से शिकस्त दे दी।

लक्ष्य का पीछा करते हुए रोहित और क्विंटन डी कॉक ने मुंबई को 45 रन की ठोस शुरुआत दी। मार्कस स्टॉयनिस ने पांचवें ओवर में अपनी पहली ही गेंद पर डी कॉक को विकेटकीपर रिषभ पंत के हाथों कैच करा दिया। डी कॉक ने 12 गेंदों पर 20 रन में तीन चौके और एक छक्का लगाया।

रोहित ने सूर्यकुमार यादव के साथ भी दूसरे विकेट के लिए 45 रन जोड़े। सूर्य 20 गेंदों में एक चौके और एक छक्के के सहारे 19 रन बनाकर रन आउट हुए लेकिन इसके बाद रोहित ने युवा ईशान किशन के साथ टीम को जीत की मंजिल पर ले जाने का काम शुरू किया। ठोस आधार ने मुंबई का काम पहले ही आसान कर दिया था। दिल्ली का स्कोर भी ऐसा नहीं था कि उसके गेंदबाज मुंबई के बल्लेबाजों पर दबाव बना पाते।

मुंबई के कप्तान रोहित एक बड़ा शॉट खेलने की कोशिश में स्थानापन्न खिलाड़ी ललित यादव के हाथों लपके गए। एनरिच नोर्त्जे ने रोहित का विकेट लेकर एकतरफा होते जा रहे मैच में कुछ जान फूंकी। ललित ने अपने आगे की तरफ डाइव लगाते हुए शानदार अंदाज में कैच लपका। रोहित ने 51 गेंदों पर मैच विजयी 68 रन में पांच चौके और चार छक्के लगाए।

खतरनाक बल्लेबाज कीरोन पोलार्ड ने आते ही नोर्त्जे की गेंदों पर लगातार दो चौके जड़ दिए। लेकिन कैगिसो रबादा ने 18वें ओवर की पहली गेंद पर पोलार्ड को बोल्ड कर दिया। पोलार्ड ने नौ रन बनाये। दूसरे छोर पर जमे किशन ने रबादा की तीसरी गेंद पर चौका जड़कर मुंबई को लक्ष्य के करीब ला दिया। हालांकि हार्दिक पांड्या 19वें ओवर में आउट हो गए जब जीत के लिए एक रन की जरूरत थी। हार्दिक ने तीन रन बनाये। क्रुणाल पांड्या ने मैच विजयी सिंगल लिया। किशन ने 19 गेंदों पर नाबाद 33 रन में तीन चौके और एक छक्का लगाया।

मुंबई इस तरह चेन्नई के बाद खिताब का सफलतापूर्वक बचाव करने वाली दूसरी टीम बन गयी है। दिल्ली की तरफ से नोर्त्जे ने 25 रन पर दो विकेट लिए जबकि रबादा और स्टॉयनिस ने एक-एक विकेट लिया।

इससे पहले अय्यर ने 50 गेंदों पर नाबाद 65 रन में छह चौके और दो छक्के लगाए जबकि पंत ने 38 गेंदों पर 56 रन में चार चौके और दो छक्के लगाए। दोनों ने चौथे विकेट के लिए 96 रन की महत्वपूर्ण साझेदारी कर दिल्ली को तीन विकेट 22 रन की नाजुक स्थिति से उबारकर लड़ने लायक स्कोर तक पहुंचाया। लेकिन यह स्कोर मुंबई को नहीं रोक सका।

टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए दिल्ली की शुरुआत खराब रही और मार्कस स्टॉयनिस बाएं हाथ के तेज गेंदबाज ट्रेंट बोल्ट की पहली ही गेंद पर विकेटकीपर क्विंटन डी कॉक को कैच थमा बैठे। बोल्ट ने तीसरे ओवर में दिल्ली को एक और झटका दे दिया। अजिंक्या रहाणे लेग साइड पर बाहर निकलती गेंद पर डी कॉक को कैच दे बैठे। रहाणे दो रन ही बना पाए।

दिल्ली अभी इन दो झटकों से संभल भी नहीं पायी थी कि ऑफ स्पिनर जयंत यादव ने शिखर को बोल्ड कर दिया। जयंत को टीम में राहुल चाहर की जगह शामिल किया गया था और उन्होंने अपने चयन को सही साबित कर दिया। मुंबई के कप्तान रोहित शर्मा ने चौथे ही ओवर में जयंत को आक्रमण पर लगाया और शिखर बड़ा स्वीप मारने की कोशिश में बोल्ड हो गए। शिखर ने 13 गेंदों पर 15 रन में तीन चौके लगाए।

तीन विकेट 22 रन पर गिर जाने के बाद कप्तान श्रेयस अय्यर और विकेटकीपर ऋषभ पंत ने दिल्ली की पारी को संभालने का काम शुरू किया। दोनों बल्लेबाजों ने चौथे विकेट के लिए 96 रन की महत्वपूर्ण साझेदारी की।

15 करोड़ के खिलाड़ी पंत ने टूर्नामेंट में पहली बार अपनी प्रतिभा के साथ न्याय करते हुए शानदार बल्लेबाजी और इस सत्र का अपना पहला अर्धशतक बनाया। पंत ने कुछ बेहतरीन शॉट खेले लेकिन नाथन काल्टर नाइल ने 15वें ओवर की आखिरी गेंद पर पंत को हार्दिक पांड्या के हाथों कैच करा दिया। पंत ने 38 गेंदों पर 56 रन में चार चौके और दो छक्के लगाए। पंत का विकेट 118 के स्कोर पर गिरा।

दूसरे छोर पर कप्तानी की पूरी जिम्मेदारी के साथ खेल रहे श्रेयस अय्यर ने भी अपना अर्धशतक पूरा किया। अय्यर ने अपनी इस पारी के साथ ही टूर्नामेंट में 500 रन भी पूरे कर लिए। शिमरॉन हेत्माएर ने आने के साथ चौका लगाया लेकिन वह पांच रन बनाकर बोल्ट का तीसरा शिकार बन गए।

अक्षर पटेल ने नौ गेंदों पर नौ रन बनाये। पटेल को कॉल्टर नाइल ने आउट किया। कैगिसो रबादा आखिरी गेंद पर रन आउट हुए। मुंबई की तरफ से बोल्ट ने 30 रन पर तीन विकेट, कॉल्टर नाइल ने 29 रन पर दो विकेट और जयंत ने 25 रन पर एक विकेट लिया। बुमराह को चार ओवर में 28 रन देकर कोई विकेट नहीं मिला और वह पर्पल कैप की होड़ में पीछे रह गए।