aajkijandhara

Transfer ट्रांसफर के नाम पर महिला कर्मचारी को अपने पास बुलाने का ऑडियो सोशल मिडिया पर वायरल

(Historical record) धान खरीदी का ऐतिहासिक रेकार्ड नेताओ एक दूसरे को खिलाई मिठाई, देखिये Video

(Historical record)

(Historical record) राजीव भवन में दिग्गज मंत्रियों ने प्रेस कांफ्रेंस की

(Historical record) रायपुर। धान खरीदी के रेकार्ड को राज्य सरकार ऐतिहासिक बताते हुए जश्न मना रही है | धान खरीदी का शतक पूरा करने पर आज राजीव भवन में दिग्गज मंत्रियों ने प्रेस कांफ्रेंस की और एक दूसरे को मिठाई खुलाई |

पीसीसी चीफ मोहन मरकाम ,मंत्री रविन्द्र चौबे, मंत्री मोहम्मद अकबर, मंत्री शिव डहरिया, मंत्री अमरजीत भगत मंत्री कवासी लखमा मौजूद रहे |

(Historical record) पीसीसी चीफ मोहन मरकाम ने कहा प्रदेश में धान खरीदी का नया कृतिमान बनाया है | 100लाख मीट्रिक धान खरीदी का आंकड़ा पार किया है | पहले खेती घाटे का सौदा माना जाता था ,अब खेती को लाभ सौदा कहा जाता है |

धान का कटोरा छत्तीसगढ़ को कहा जाता है , किसानों के हितों का ध्यान भुपेश सरकार करती है | मंत्री रविंद्र चौबे ने कहा 17 दिंसबर को भूपेश सरकार को चार साल पूरे हुए और 17 जनवरी को बड़ी उपलब्धि सबके सामने है |

धान खरीदी की सुचारू व्यवस्था है ,110 लाख का लक्ष्य है समय अभी बांकी है ,यह भी आंकड़ा पार हो जाएगा |

(Historical record) खरीदी में व्यवधान आए थे , केंद्र सरकार की तरफ से व्यवधान आए | केंद्र ने कहा मिनिमम स्पोपर्ट प्राइज से ज्यादा नही मिलना चाहिए, फिर योजना बनाई राजीव गांधी न्याय योजना | कोरोना काल मे भी धान खरीदी बन्द नहीं हुई ,पूरे प्रदेश में व्यवस्थित धान खरीदी हुई |

सरकार का काम है किसानों का मदद करना ,जिसका असर आज प्रदेश को इकॉनमी में भी दिख रही है | लगभग 21000 करोड रुपए की राशि किसानों के खातों में हस्तांतरित कर दिया जा चुका है।

कोरोना के चलते हमारे धान खरीदी में भी कई प्रकार के व्यवधान आए थे । मंत्री अमरजीत भगत ने कहा प्रदेश के उपलब्धि में एक और गणित जुड़ गया, 100 लाख मीट्रिक धान खरीदी का रिकॉर्ड |

21 हजार करोड़ किसानों के खाते में राशि अंतरण की जा चुकी है | 15 साल की तुलना में चार साल में हमने उपलब्धि हासिल की है दोनों के कार्यकाल में जमीन आसमान का अंतर है |

(Historical record)  भाजपा शासन काल से हमारे शासनकाल में किसानों की संख्या दोगुना हुई है ,काम बोलता है | शुरू साल हम 84 लाख मीट्रिक टन उसके बाद 92 लाख फिर 98 लाख मीट्रिक टन और आज सैकड़ा पार कर गए |

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *