aajkijandhara

Transfer ट्रांसफर के नाम पर महिला कर्मचारी को अपने पास बुलाने का ऑडियो सोशल मिडिया पर वायरल
Guru govind singh Jayanti : गुरु गोबिंद सिंह की जयंती आज, जीवन बलिदानों से भरा रहा...

Guru govind singh Jayanti : गुरु गोबिंद सिंह की जयंती आज, जीवन बलिदानों से भरा रहा…

Guru govind singh Jayanti : गुरु गोबिंद सिंह की जयंती आज, जीवन बलिदानों से भरा रहा…

 

Guru govind singh Jayanti : सिक्ख सम्प्रदाय की स्थापना का मुख्य उद्देश्य मुगल आक्रमणकारियों से हिन्दुओं की रक्षा करना था। इस संप्रदाय ने कई महत्वपूर्ण अवसरों पर भारत को मुगलों और अंग्रेजों से बचाया। सिखों के दस गुरु माने जाते हैं,

International cricket match in Chhattisgarh : कल होगा छत्तीसगढ़ में अंतराष्ट्रीय क्रिकेट मैच का महासंग्राम…

Guru govind singh Jayanti : जिनमें से अंतिम गुरु गुरु गोबिंद सिंह थे। खालसा पंथ के संस्थापक दशम गुरु श्री गुरु गोबिंद सिंह जी एक महान स्वतंत्रता सेनानी और कवि भी थे। गुरु गोबिंद सिंह जी आज भी अपने बलिदान और वीरता के लिए सभी के लिए प्रेरणास्रोत हैं।

गुरु गोबिंद साहिब को सिखों का एक महत्वपूर्ण गुरु माना जाता है। उनकी सबसे बड़ी विशेषता उनकी वीरता थी। उनके शब्द “चलो सवा लाख के लिए लड़ते हैं” आज भी उनकी बहादुरी की बात करते हैं। उनके अनुसार ताकत और साहस के मामले में उनका एक सिख 1.25 हजार लोगों के बराबर है। श्री गुरु गोबिंद सिंह जी का जन्म पौष सुदी 7

https://jandhara24.com/news/138531/jobs-in-agriculture-insurance-company/

वीं 1666 को पटना में माता गुजरी जी और पिता श्री गुरु तेग बहादुर जी के यहाँ हुआ था। उस समय गुरु तेग बहादुर जी बंगाल में थे। उनके कथन के अनुसार बालक का नाम गोविन्द राय था और बैसाखी के दिन 1699 में पाँचों प्यारे का अमृत पीकर गुरूजी गोविन्द राय के गुरू गोविन्द सिंह जी बन गये। उनका बचपन पटना, बिहार में बीता। जब

श्री गुरु तेग बहादुर जी 1675 में हिन्दू धर्म की रक्षा करते हुए दिल्ली में शहीद हुए, तब गुरु गोबिंद साहिब जी गुरु की गद्दी पर विराजमान थे। दीवार में जिंदा चुने गए गुरु गोबिंद सिंह के पुत्र साहिबजादा जोरावर सिंह और साहिबजादा फतेह सिंह वीरता और बलिदान की अनूठी मिसाल हैं। इस पूरी घटना में भी गुरु गोबिंद सिंह अडिग रहकर लड़ते रहे, ऐसा कोई महात्मा ही कर सकता है।

अपने अंतिम दिनों में, गुरु गोबिंद सिंह जी ने अपने सभी सिखों को इकट्ठा किया और उन्हें विनम्र और शुभ व्यवहार करने, देश से प्यार करने और हमेशा गरीबों की मदद करने की शिक्षा दी। तब यह भी कहा गया था कि उनके बाद कोई शारीरिक गुरु नहीं होगा और केवल ‘गुरु ग्रंथ साहिब’ ही सिखों के गुरु के रूप में उनका मार्गदर्शन करेंगे। गुरु गोबिंद सिंह की मृत्यु 7 अक्टूबर 1708 ई. को नांदेड़, महाराष्ट्र में हुई।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *