aajkijandhara

Transfer ट्रांसफर के नाम पर महिला कर्मचारी को अपने पास बुलाने का ऑडियो सोशल मिडिया पर वायरल

Gharghoda Raigarh : धरमजयगढ़ के प्रेमनगर कोल साइडिंग डस्ट कोयला लोड कर ले जा रहे दो ट्रक जप्त

Gharghoda Raigarh : धरमजयगढ़ के प्रेमनगर कोल साइडिंग डस्ट कोयला लोड कर ले जा रहे दो ट्रक जप्त

Gharghoda Raigarh : धरमजयगढ़ के प्रेमनगर कोल साइडिंग डस्ट कोयला लोड कर ले जा रहे दो ट्रक जप्त

अनिता गर्ग

Gharghoda Raigarh : घरघोड़ा /रायगढ़ जिले के धरमजयगढ़ के प्रेमनगर कोल साइडिंग डस्ट कोयला लोड कर ले जा रहे दो ट्रक , गाड़ी नंबर C G . _13 -A S – 1765 और दूसरा C G- 13 y – 6443 को घरघोड़ा पुलिस ने जप्त कर धरमजयगढ़ थाने में रखा है,

Also read  :Meerut Rape Case : धर्म छिपाकर लड़की को बनाया हवस का शिकार, फिर श्रद्धा जैसे बुरा हाल करने की धमकी…दिल लहला देने वाली हैवानियत

Gharghoda Raigarh : प्रेम नगर साइडिंग में आए दिन डस्ट कोयला को हटाया जा रहा है। जब से प्रेमनगर कोल साइडिंग चालू हुआ है, तब से ठेकेदार द्वारा कोयला की अफरा-तफरी का खेल खेला जा रहा है।

कुछ महीने पहले जाम पाली कोयला खदान से प्रेमनगर कोल साइडिंग ले जा रहे दो ट्रक कोयला रास्ते से ही गायब हो गया था। जिसको धरमजयगढ़ के एक सत्ताधारी नेता द्वारा बेचने की बात सामने आया था,

ठेकेदार और कोयला दलालों द्वारा मिलीभगत कर उच्च क्वालिटी कोयला की अफरा-तफरी कर दिया जाता है कोयला अफरा-तफरी से कम हुए कोयला की पूर्ति के लिए ठेकेदार द्वारा डस्ट कोयला को साइडिंग में भेजकर कमी की पूर्ति किया जा रहा है जिसे घरघोड़ा पुलिस ने पकड़ कर धरमजयगढ़ थाने के सुपुर्द किया है

इस संबंध में जब थाना प्रभारी हर्षवर्धन सिंह बैंस घरघोड़ा से बात किया गया तो उन्होंने बताया कि कागजात की जांच की जा रही है कागजात सही पाए जाने पर गाड़ी छोड़ दिया जाएगा अन्यथा f.i.r. की जाएगी।

Also read  :https://jandhara24.com/news/126880/deputy-chief-minister-said-on-the-video-of-health-ministers-massage-that-he-is-taking-physiotherapy/

अब सोचने वाली बात है कि डस्ट कोयला को प्रेम नगर साइडिंग क्यों भेज रहे हैं। जानकारों का मानना है, कि कोल खदान से डस्ट हो कहीं दूसरे जगह निपटान करना होता है

लेकिन ठेकेदार द्वारा डस्ट को कोयला में मिलाकर मुनाफा कमाया जा रहा है।जिस प्रकार घरघोड़ा थाना प्रभारी द्वारा बताया गया अगर गाड़ी का दस्तावेज सही नही पाया गया तो f.i.r. कर कार्यवाही की जाएगी।

फिर भी दोनों गाड़ियां ओवरलोड है जो साफ साफ दिखाई दे रही है फोटो में पर्यावरण सुरक्षा की दृष्टि से फ्लाई एस और कोयले की गाड़ियों को तिरपाल से पैक बांधकर लेकर जाना होता है।

परंतु दोनों गाड़ियां बेखौफ ओवरलोड डस्ट उड़ाते हुए पर्यावरण को प्रदूषित करते हुए फर्राटे भर रहे थे, जो अपराध की श्रेणी में आता है अब देखना यह है दस्तावेज सही हो या ना हो इन गाड़ियों पर किस प्रकार की कार्यवाही की जाती है।

क्योंकि यह दोनों ही गाड़ियां पर्यावरण विभाग और खनिज विभाग के भी अपराधी हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *