aajkijandhara

Transfer ट्रांसफर के नाम पर महिला कर्मचारी को अपने पास बुलाने का ऑडियो सोशल मिडिया पर वायरल

(Divisional Forest Officer) वन मंडला अधिकारी के निर्देश के बावजूद माइंस प्रबंधन की मनमानी

(Divisional Forest Officer)

(Divisional Forest Officer) गोदावरी पॉवर एंड इस्पात लिमिटेड द्वारा अधिरोपित शर्तो का किया जा अवेहलना

(Divisional Forest Officer) भानुप्रतापपुर। वन मंडला अधिकारी के निर्देश के बावजूद भी माइंस प्रबंधन अपने मनमानी करने में लगी हुई है। निरीक्षण के दौरान  जाधव श्रीकृष्ण ने माइंस क्षेत्र में स्थित पुराने सेफ्टी जोन पर से मिट्टी को हटाने के लिए निर्देशित किया गया था जिसे कम्पनी दरकिनार करते हुए सेफ्टी जोन में रोड़ बना कर सेफ्टी जोन को ही तोड़ दिया गया है। जिस पर शिकायत के बावजूद अधिकारी कम्पनी के पक्ष में काम कर रहे हैं अधिकारी को अपने ही नियम को पालन करने में संकोच हो रही हैं।

(Divisional Forest Officer) गोदावरी माइंस पिछले कई वर्षों से संचालित है। कम्पनी के द्वारा भू प्रवेश से पहले खनिज पट्टा क्षेत्र के चारो तरफ सेफ्टी जोन का निर्माण किया जाना था लेकिन आज पर्यंत तक सेफ्टी जोन अधूरा पड़ा हुआ है। कुछ जगहों पर सेफ्टी जोन निर्माण किया गया था उसे भी तोड़ कर शर्तों के आवेलना में लगी हुई हैं। एक ओर देखे तो खदान में पुनः शर्तों को पालन नहीं कि जाने के बावजूद भी भू प्रवेश की अनुमति कैसे मिल गई यह समझ से परे हैं। या तो मोटी रकम लेकर भू प्रवेश की अनुमति दे दी गई होंगी।

(Divisional Forest Officer) नियम शर्तो को देखा जाए तो माइंस क्षेत्र के चारो ओर कटीले तार से घेरा करते हुए सेफ्टी जोन का निर्माण किया जाना होता है, ताकि उनका लीज एरिया की जानकारी हो सके। इनके अलावा माइंस क्षेत्र के चारो ओर साढ़े सात मीटर चौड़ा स्थान पर वृक्षारोपण किया जाना होता है। इसका मुख्य उद्देश्य खदान से प्रदूषित हवा के रोकथाम के साथ ही पर्यावरण के संतुलन को बनाये रखना है।

(Divisional Forest Officer)  आरी डोंगरी स्थित गोदावरी पॉवर एन्ड इस्पात लिमिटेड रायपुर के द्वारा पुराने सेफ्टी जोन को ही दबा दिया है, निरीक्षण के दौरान डीएफओ ने माइंस प्रबंधन के खिलाफ नाराजगी जाहिर किया। उन्होंने कहा कि जब तक आप नए सेफ्टी जोन पूर्ण नही कर लेते तब तक पुराने को तोड़ना व दबाना नही है, इससे पता ही नही चल पाएगा कि पूर्व में आपका लीज एरिया कहा से कहा तक है।

इस सम्बंध में जाधव श्रीकृष्ण वनमंडल अधिकारी पूर्व वनमंडल भानुप्रतापपुर ने कहा कि निरीक्षण के दौरान पुराने सेफ्टी जोन से मिट्टी हटाने के लिए माइंस प्रबंधन को कहा गया था वही जानकारी मिली है कि कंपनी के द्वारा मिट्टी हटाने के बजाय पुराने सेफ्टी जोन पर मिट्टी पाट दिया है, इस पर पंचनामा तैयार कर रिपोर्ट उच्च कार्यालय को भेजी जाएगी।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *