Disabled day बिन आंखों के तुमसे ज्यादा आसमान देखे हैं…….

Disabled day

Disabled day बिन आंखों के तुमसे ज्यादा आसमान देखे हैं

Disabled day सक्ती ! हमने तो छूकर जख्म के गहरे निशान देखे हैं।बिन आंखों के तुमसे ज्यादा आसमान देखे हैं… यह बात अधिवक्ता चित्रंजय पटेल ने विकलांग दिवस पर दृष्टि बाधित विद्यालय, सक्ती के द्वारा आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के आसंदी से दृष्टि बाधित बच्चों के सम्मान में कहा।

Disabled day मुख्य अभ्यागत डाक्टर शालू पाहवा ने कहा कि हम दिव्यांगों की भावनाओं को समझ कर उनके साथ मित्र भाव से सहयोग करें ताकि हीनभाव से परे आत्म भाव से समाज के मुख्य धारा शामिल हो सके।

अमर अग्रवाल ने विद्यालय के व्यय बजट के अनुसार समाज से सहयोग देने के लिए तत्पर हैं ब्रह्माकुमारी बहन कांति ने कहानी के माध्यम से दिव्यांग बच्चों का उत्साह वर्धन किया।

Disabled day प्रीतम गबेल ने दृष्टिबाधित बच्चों के दृश्य शक्ति के विद्यालय की तारीफ किया।
राम अवतार अग्रवाल ने कहा कि राष्ट्रीय विकलांग चेतना परिषद हमेशा दृष्टिबाधित विद्यालय के हर सुख दुख में खड़ा रहेगा।

Disabled day समापन अवसर पर मंचासीन जगदीश बंसल, प्रकाश अग्रवाल, ऋषि गोयल, कपूर चंद अग्रवाल, अशोक अग्रवाल ने भी दृष्टिबाधित बच्चों के उत्साह वर्धन के लिए अपने बातें रखी।विद्यालय के प्राचार्य आदिले ने वार्षिक प्रतिवेदन प्रस्तुत करते हुए अतिथियों के सम्मान में स्वागत उद्बोधन किया।

विद्यालय की प्रबंध समिति के अध्यक्ष विंदेश्वरी आदिले ने उपस्थित लोगों के प्रति आभार व्यक्त किया।

Disabled day सम्मान समारोह का शुभारंभ छत्तीसगढ़ महतारी व भारत माता के चित्र पर अभ्यागतो के द्वारा माल्यार्पण दीप प्रज्वलन पूजन कर किया गया। कार्यक्रम संचालन दादू केवट किया तो वहीं ने अपने गीतों व मटका फोड़ प्रतियोगिता में अपने प्रदर्शन से लोगों का मन मोह लिया।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

MENU