Dantewada News केवल व्यक्तिगत हित के लिए अधिकारियों से मिलता है कर्मा परिवार

Dantewada News

Dantewada News कर्मा परिवार से त्रस्त हैं अधिकारी, उनसे मिलना नहीं चाहते – रामू नेताम

https://jandhara24.com/news/130514/the-team-arrived-before-becoming-a-girl-bride-stopped-the-marriage/

Dantewada News दंतेवाड़ा !  एक जनप्रतिनिधि के तौर नेताओं की ये जिम्मेदारी होती है कि वो अपने क्षेत्र की समस्याओं को पहचाने और जनता के हित के लिए वो सरकार को इस विषय में सूचित कर समस्या का निदान प्रशासन के माध्यम से करे।

परंतु दंतेवाड़ा जिले में कर्मा परिवार के राजनेता एक जनप्रतिनिधि होने की अवधारणा को न केवल अपमानित कर रहे हैं अपितु वो राजनीति को एक व्यवसाय की तरह केवल अपने नफे नुकसान के लिए इस्तेमाल कर रहे हैं ।

Dantewada News जिला पंचायत सदस्य और बीजेपी मंडल महामंत्री रामू नेताम ने प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से विधायक और जिला पंचायत अध्यक्ष पर तीखे आरोप लगाए

उन्होंने कहा कि क्षेत्र की जनता ने बड़ी आशा से इस परिवार से विधायक और जिला पंचायत अध्यक्ष का चुनाव किया था परंतु सत्ता के नशे में मदमस्त इन नेताओं ने क्षेत्र की जनता की समस्याओं को दरकिनार करते हुए केवल स्वहित के कार्यों को ही तवज्जो दिया

Dantewada News  रामू नेताम ने कहा कि प्रेस के माध्यम प्राप्त जानकारी के अनुसार जिलाधीश के कुछ समय इंतजार कराए जाने से नाराज जिला पंचायत अध्यक्ष ने सत्ता की अकड़ का प्रदर्शन करते हुए जिलाधीश से कहा कि आप दो कौड़ी के लोगों को तवज्जो दे रहे हैं और उन्हें समय दे रहे हैं ये ठीक नहीं है ।

जबकि उस समय कुछ आदिवासी समाज के जनप्रतिनिधि तथा समाजसेवी जिलाधीश से जनसमस्याओं के निराकरण के लिए जिलाधीश से भेंट कर रहे थे

रामू नेताम ने कहा कि जनप्रतिनिधि जनता का सेवक होता है और अपनी ही जनता को दो कौड़ी के लोग कहना जिला पंचायत अध्यक्ष की अहंकारी और घटिया सोच का प्रदर्शन है जब कांग्रेस सरकार आदिवासियों का आरक्षण छीन रही थी तब जिला पंचायत सदस्य और कर्मा परिवार के किसी सदस्य ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी थी और आज जब आदिवासी समाज के लोग प्रशासन से अपनी समस्याओं के निराकरण के लिए मिल रहे हैं तो उन्हें दो कौड़ी का कह रहीं हैं ।

Regional sports हद है, अब गिल्ली-डंडा भी महंगा

Dantewada News  रामू नेताम ने कर्मा परिवार पर आरोप लगाते हुए कहा कि इस परिवार को जनता की समस्याओं और क्षेत्र के विकास से कोई सरोकार नहीं है, इनका एकमात्र ध्येय अपना विकास, सरकारी जमीनों पर कब्जा, सरकारी आवासों पर अपने परिवारों का कब्जा है ये केवल अपने और अपने परिवार के लोगों के विकास के लिए प्रशासनिक अधिकारियों पर दबाव बनाने के लिए ही मिलती हैं जिसका परिणाम है कि निम्न से लेकर उच्च अधिकारी इनसे मिलने में कतराते हैं

रामू नेताम ने कहा कि ये परिवार चाहता है कि कलेक्टर अपना अधिकांश समय इस परिवार की समस्याओं को सुनने में व्यर्थ करे और तो और ये एक जिलाधीश से वीआईपी ट्रीटमेंट की अपेक्षा रखते हैं, पर इन्हे पता होना चाहिए कि जिलाधीश केवल इनके परिवार के विकास के लिए जिला में नहीं बैठे हैं जिलाधीश का कार्य जनता की समस्याओं का निराकरण करना है ।

विगत 4 वर्षों से अधिकारी कर्मचारी कर्मा परिवार की दादागिरी से त्रस्त हो चुके हैं जिसका परिणाम ये है कि वो अब इनसे मिलना नहीं चाहते, इनका यही रवैया रहा था जल्द ही जनता इन्हें सबक सिखायेगी ।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

MENU