Chief Minister of Madhya Pradesh Dr. Mohan Yadav आज भी उल्टे रास्ते पर चल रही है कांग्रेस : अंग्रेज चले गए लेकिन कांग्रेस को छोड़ गए

Chief Minister of Madhya Pradesh Dr. Mohan

Chief Minister of Madhya Pradesh Dr. Mohan Yadav अंग्रेज चले गए, पर कांग्रेस को छोड़ गए : यादव

 

Chief Minister of Madhya Pradesh Dr. Mohan Yadav रेवाड़ी (हरियाणा) !   मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव ने आज कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि लॉर्ड मैकाले ने शिक्षा नीति में से भगवान राम और कृष्ण के सारे अध्यायों को निकालकर शिक्षा नीति को देव विहीन कर दिया, इसके बाद अंग्रेज चले गए लेकिन कांग्रेस को छोड़ गए और वो कांग्रेस आज भी उल्टे रास्ते पर चल रही है।


Chief Minister of Madhya Pradesh Dr. Mohan Yadav डॉ यादव रेवाड़ी के बेरली के कोसली में आयोजित रैली में संबोधन दे रहे थे। इस दौरान उन्होंने कहा कि हरियाणा अर्थात हरि का निवास। यहां भगवान श्री कृष्ण की धरती पर अपने-अपने ढंग से सब जीवन यापन कर रहे हैं। यहां के हर घर से कोई ना कोई रणबांकुरा अपनी सीमा पर ड्यूटी कर रहा है।


Chief Minister of Madhya Pradesh Dr. Mohan Yadav उन्होंने कहा कि भगवान श्री कृष्ण के जीवन में कष्ट ही कष्ट रहे हैं, लेकिन हर कष्ट के बाद भी कन्हैया, कन्हैया ही नहीं है कालिया नाग को मार कर उसके फन पर नृत्य करने की हिम्मत केवल गोपाल कृष्ण में है। जो गाय चरा कर आनंद लेते हैं और अपनी माता बहनों के कष्ट को भी दूर करने में आगे रहते हैं। कंस जैसे महापराक्रमी को उसके घर में मारते हैं। भगवान श्री कृष्ण कंस को मारने के बाद कुर्सी को लात मार के उज्जैन शिक्षा ग्रहण करने के लिए आ गए। भगवान श्री कृष्ण ने 64 कला, 14 विद्या, 4 वेद, 18 पुराण की शिक्षा ग्रहण की। ऐसा शिक्षार्थी तो कहीं मिलेगा नहीं।


मुख्यमंत्री ने कहा कि हरियाणा की धरती पर जब महाभारत का महायुद्ध हुआ। उस युद्ध की धमक से दुनिया दहल उठी थी, लेकिन ऐसे कठिन समय में भी, जो शिक्षा ग्रहण की थी, उस समय में उनके मुख से 18 अध्याय की पवित्र गीता निकली।


Chief Minister of Madhya Pradesh Dr. Mohan Yadav इसी क्रम में उन्होंने कहा कि 1835 में लॉर्ड मैकाले ने जब शिक्षा नीति लागू की तब उस शिक्षा नीति में से दुर्भाग्य से भगवान श्री कृष्ण और भगवान श्री राम के सारे अध्यायों को निकालकर शिक्षा नीति को देव विहीन कर दिया। अंग्रेज चले गए, लेकिन कांग्रेस को छोड़ गए। ये भी आज उस उल्टे रास्ते पर चलते हैं। कांग्रेस ने सोमनाथ के मंदिर का विरोध किया, जिसका इतिहास गवाह है। 17 लाख साल पहले भगवान राम हुए और 5000 साल पहले भगवान श्री कृष्ण हुए। एक ने मर्यादा के साथ जीवन जीना सिखाया और दूसरे ने मर्यादा को तोड़ने वालों को लाइन पर लाने का काम किया।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पहले जब अमेरिका के राष्ट्रपति आते थे तो भेंट के रूप में ताजमहल देते थे, पर आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पवित्र गीता का ज्ञान उन्हें भेंट करते हैं। जो राम का नहीं, वो किसी काम का नहीं। सबका साथ सबका विकास, यह बोलने के लिए नहीं करके दिखाने के लिए है।

Chhattisgarh Sanskrit Vidyamandalam Raipur छत्तीसगढ़ संस्कृत विद्यामंडलम् द्वारा दसवीं और बारहवीं परीक्षा परिणाम घोषित


उन्होंने कहा कि महाकाल के महालोक में आनंद आ गया, भगवान राम में आनंद आ गया तो जमुना जी वाले कृष्ण कन्हैया ने क्या बिगाड़ा है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

MENU