aajkijandhara

Transfer ट्रांसफर के नाम पर महिला कर्मचारी को अपने पास बुलाने का ऑडियो सोशल मिडिया पर वायरल

(Budhasagar beautification) बुढासागर सौन्दर्यीकरण मामले में निष्पक्ष कार्यवाही जरूरी – किशुन यदु

(Budhasagar beautification)

(Budhasagar beautification) बुढासागर सौन्दर्यीकरण मामले में निष्पक्ष कार्यवाही जरूरी – किशुन यदु

(Budhasagar beautification) राजनांदगांव। नगर निगम में नेता प्रतिपक्ष किशन यदू ने कांग्रेस के वरिष्ठ पार्षद तथा शहर कांग्रेस अध्यक्ष कुलबीर सिंह छाबड़ा द्वारा बूढ़ा सागर सौन्दर्यीकरण मामले में दिए गए बयान पर आश्चर्य जताते हुए कई सवाल उठाए हैं ।

(Budhasagar beautification)  जारी बयान में यदु ने कहा कि बूढ़ा सागर सौन्दर्यीकरण मामले में करोड़ों रुपए का घोटाला हुआ है और इसमें कई अधिकारी शामिल है, जिसके चलते आज तक जांच रिपोर्ट के बावजूद कोई कार्यवाही नहीं हुई है। कांग्रेस के बयानवीर केवल अखबारों में छाए रहने तथा बड़े नेताओं को दिखाने के लिए बूढ़ासागर मामले में बयान दे रहे हैं। अगर वह इतने ही सजग और सही पार्षद हैं तो उनका मामले की जानकारी होने के बाद सूचना के अधिकार मे लगे रहना कुछ और इंगित करता है।

(Budhasagar beautification)  जनता से जुड़े मामले में भ्रष्टाचारियो को संरक्षण चिंता का विषय है। महापौर हेमा देशमुख ने नगर निगम की सामान्य सभा में पारित सर्वसम्मति से दोषियों पर कार्यवाही की बात कही थी। जिसमे चर्चा के दौरान ये स्वयं गायब हो गए थे। अब जाकर यह पार्षद महाशय नींद से जागे हैं और महापौर निगमायुक्त के द्वारा की जा रही गलतियो पर पर्दा डालने का काम कर रहे हैं।

बूढ़ा सागर सौन्दर्यीकरण के मामले में कुलबीर का बयान यह दिखाता है कि सत्ता पक्ष ही आपसी द्वंद में लगा हुआ है।

महापौर भी ऐसे भ्रष्ट अधिकारियों को बचाने में लगी हुई है। जिस महत्वकांक्षी योजना की शुरुआत भाजपा शासन में हुई थी, जो कालांतर में कांग्रेस राज में भी पूरी नहीं हुई है ।

यदु ने आगे कहा भाजपा पार्षदों के द्वारा दिए जा रहे धरना प्रदर्शन में नगर निगम के आयुक्त आशुतोष चतुर्वेदी ने आकर लिखित में आश्वासन दिए थे कि 2 माह में दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी परंतु आज तक कोई भी कार्यवाही नहीं हो पाई है।

यदु ने आगे कहा छाबड़ा जी सत्ता पक्ष के वरिष्ठ पार्षद है साथ ही साथ कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष भी हैं उन्हें बयान देने से पहले नगरी प्रशासन मंत्री अथवा मुख्यमंत्री  से मिलकर के इस विषय में नगर निगम की सामान्य सभा नगर निगम के विपक्ष के द्वारा लगातार किए गए आंदोलन की जानकारी देकर राजनांदगांव के हित में दोषियों पर कार्यवाही सुनिश्चित करवानी चाहिए थी।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *