Bhatapara : एकल शिक्षकीय स्कूलें कितनी ?

Bhatapara :

राजकुमार मल

 

Bhatapara : विस्तृत जानकारी सहित प्रस्ताव बनाकर भेजने के निर्दश

 

 

Bhatapara : भाटापारा- गंभीरता दिखाई, तो खंड शिक्षा क्षेत्र की आठ प्राथमिक शाला में दर्ज संख्या के अनुपात में शिक्षक अध्यापन कराते नजर आएंगे। यह स्कूलें फिलहाल एक-एक शिक्षकों के भरोसे चल रहीं हैं।

ग्रीष्मकालीन अवकाश खत्म होने में चंद दिन रह गए हैं। इसके पूर्व बिना किसी व्यवधान के नया शिक्षा सत्र चालू हो, इसके लिए जिला शिक्षा विभाग ने तैयारी चालू कर दी है। प्रवेश उत्सव की योजना पर काम पूरा कर लेने के बाद जिला मुख्यालय ने अब खंड शिक्षा अधिकारियों से एकल शिक्षकीय स्कूलों की जानकारी मांगी है।

आस जागी इन स्कूलों में

 

115 दर्ज संख्या के साथ, प्राथमिक शाला कोनी सबसे आगे है। एकल शिक्षकीय स्कूलों की सूची में प्राथमिक शाला गोगिया दूसरे नंबर पर है। यहां की दर्ज संख्या 98 है। 95 छात्रों की दर्ज संख्या वाली गोढ़ी सिंगारपुर की प्राथमिक शाला तीसरे नंबर पर है। शहीद वीर नारायण सिंह प्राथमिक शाला रिक्शा कॉलोनी भाटापारा का भी नाम इसलिए दर्ज है क्योंकि यहां 69 छात्र अध्यनरत हैं और शिक्षक मात्र एक। 50 छात्रों के साथ प्राथमिक शाला बेंद्री, 41 दर्ज संख्या वाली प्राथमिक शाला चंदली और ग्राम ढाबाडीह 33 छात्रों के साथ शिक्षक के इंतजार में है।

दुर्दशा सर्वाधिक

 

नगर पालिका कन्या हायर सेकेंडरी स्कूल भाटापारा, दर्ज संख्या 273। खंड मुख्यालय में स्थित यह स्कूल, विषय विशेषज्ञ शिक्षकों की कमी से जूझ रहा है। एकल शिक्षकीय स्कूलों की सूची में यह नाम इसलिए चौंकाता है क्योंकि पालिका प्रशासन ने स्थिति जानते हुए भी संज्ञान में नहीं लिया है। जनप्रतिनिधियों की फौज है, फिर भी उनकी खामोशी समझ से परे है।

मांगी जानकारी

 

नया शिक्षा सत्र चालू होने के पूर्व जिला शिक्षा विभाग ने जिस गंभीरता के साथ एकल शिक्षकीय विद्यालयों की जानकारी मांगी है, वह यदि आगे भी बनी रही, तो निश्चित ही खंड शिक्षा क्षेत्र की 8 स्कूलों में अध्ययन-अध्यापन को लेकर छात्र, शिक्षक और पालकों में रुझान बढ़ेगा। अब देखना यह है कि इन स्कूलों का संचालन पटरी पर कब तक लौटाया जा सकेगा ?

बहुत जल्द

 

जिले के सभी विकासखंड शिक्षा अधिकारियों से एकल शिक्षकीय स्कूलों की जानकारी और प्रस्ताव बनाकर भेजने के लिए कहा जा चुका है। प्रयास कर रहे हैं कि दर्ज संख्या के अनुपात में शिक्षकों की तैनाती हो सके।

– हिमांशु भारती, जिला शिक्षा अधिकारी, बलौदा बाजार

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

MENU