aajkijandhara

Transfer ट्रांसफर के नाम पर महिला कर्मचारी को अपने पास बुलाने का ऑडियो सोशल मिडिया पर वायरल

(Bhanupratappur News Today) करोड़ो की रॉयल्टी देने वाले गांव की सड़क बद से बतर

(Bhanupratappur News Today)

(Bhanupratappur News Today) करोड़ो की रॉयल्टी देने वाले गांव की सड़क बद से बतर

(Bhanupratappur News Today) भानुप्रतापपुर। कच्चे गोदावरी माइंस रोजाना करोड़ों की रॉयल्टी दे रही है लेकिन बदले में सिर्फ गांव वालों को गड्ढों से भरी सड़क वा धूल मिल रही हैं।

परिवहन कार्य में लगे सैकड़ों ट्रकों से हर दिन उड़ने वाली धूल से ग्रामीणों को धूल से होने वाली एलर्जी से पीड़ित व्यक्ति में छींक, नाक बहने या बंद होने, आँखों में खुजली या पानी आने, साँस में घरघराहट, खाँसी, गले में ख़राश जैसी बीमारी अपनी चपेट में ले रही है।

(Bhanupratappur News Today) सड़क से उड़ती धूल से रात में श्वांस लेने में परेशानी हो रही है। माइंस प्रबंधक की मनमानी से सड़क की न तो मरम्मत हो रही और न ही धूल कम करने के लिए सड़क पर पानी डाला जा रहा है।

नाम मात्र के लिए सुबह बस पानी डाल कर अपना खानापूर्ति कर रहे हैं। ऐसे में ग्रामीणों की परेशानी बढ़ रही है। जबकि माइंस प्रभावित गांव में मूलभूत सुविधा स्वास्थ शिक्षा सड़क बेहतर होना चाइये।

ग्रामीणों ने बताया कि आरी डोंगरी स्थित गोदावरी पॉवर एन्ड इस्पात लिमिटेड रायपुर द्वारा खनन कार्य किया जा रहा है। करोडों का लौह अयस्क निकाला जा रहा है, लेकिन सड़क का मरम्मत नहीं करा रही हैं। सड़क खराब होने के कारण ग्रामीणों को आने जाने में बड़ी परेशानी हो रही है। बारिश के दिनों में कीचड़ भरी सड़क से ग्रामीणों व स्कूल बच्चों को आना जाना करना होता है।

(Bhanupratappur News Today) सड़क पर कीचड़ सूखते ही धूल में बदल जाता है। ट्रकों के पीछे उड़ रही धूल लोगों के घर में घुस रही हैं और घर भी पूरी तरह से धूल में रंग गई हैं ग्रामीणों ने बताया कि धूल के कारण वह पीने का पानी ढंक कर रखते हैं।

बावजूद धूल के जहरीले कड़ पानी में जामा हो जाते हैं। भोजन में भी धूल के छोटे छोटे कड़ पड़ते रहते हैं। शुद्ध आक्सीजन ग्रामीणों को नहीं मिल रही है।

ट्रकों के पीछे उड़ते धूल के गुब्बार के कारण हर किसी को मास्क लगाने के लिए मजबूर होना पड़ता है। सर्दी के दिनों में तो रात में नींद लेना संकट भरा हो गया है।

बार बार कच्चे माइंस संचालक को अवगत कराने के बाद भी धूल से मुक्ति दिलाने ठोस उपाय नहीं किया जा रहा है। जहरीली धूल के चलते दमा जैसी घातक बीमारी ग्रामीणों को अपनी चपेट में ले रही है।

ग्रामीणों की ओर से बार-बार शिकायत करने के बाद भी धूल से मुक्ति नहीं दिलाया जा रहा है। मजबूरी में ग्रामीणों को आंदोलन करना पड़ता है। सड़क को बनाने न ही सरकार रूचि ले रही और न ही गोदावरी माइंस संचालक ध्यान दे रही है। ऐसे में राहगीरों के साथ सड़क किनारे रहने वालों को अधिक दिक्कत होती है।

शिव सेना के प्रदेश महासचिव चंद्रमौली मिश्रा ने कहा कि माइंस जाने वाली सड़क खराब है। सड़क पर गड्ढे हो गए हैं। सड़क इतनी खराब कि गड्ढों के चपेट में हर दिन ग्रामीण आ रहे हैं।

उसके बाद भी माइंस प्रबंधक व शासन प्रशासन के द्वारा ना सड़क की मरम्मत कर रही है ना नियमित रूप से सड़क में पानी का छिड़काव किया जा रहा है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *