29.2 C
Chhattisgarh

Bhanupratappur Latest News : डीजे के धुन व आतिशबाजी के साथ भगवान शिव की बारात निकाली, सैकड़ों भक्त हुए शामिल

Chhattisgarh NewsBhanupratappur Latest News : डीजे के धुन व आतिशबाजी के साथ भगवान शिव की बारात निकाली, सैकड़ों भक्त हुए शामिल

Bhanupratappur Latest News : डीजे के धुन व आतिशबाजी के साथ भगवान शिव की बारात निकाली, सैकड़ों भक्त हुए शामिल

Bhanupratappur Latest News : डीजे के धुन व आतिशबाजी के साथ भगवान शिव की बारात निकाली, सैकड़ों भक्त हुए शामिल

भानुप्रतापपुर। नगर सहित पूरे क्षेत्र कल शुक्रवार को शिवमय रहा।

हल्की बारिश व डीजे के धुन पर आतिशबाजी के साथ भगवान शिव जी कि बारात दोपहर को सिद्ध राम जानकी मंदिर से निकली जो मुख्य चौक से होते हुए शाम 6 बजे स्थानीय साई मंदिर गई।

Also read : Bhilai Murmunda Latest News : मुरमुंदा में केन्द्र की योजनाओं को लेकर पहुंचे एसबीआई भोपाल के अफसर, किसानों को बांटे लोन ऋण स्वीकृति पत्र

बारात में सैकड़ों की तादात कि भक्त शामिल होकर नाचते-गाते जयकारा लगते हुए नज़र आये।

श्रावण मास के पावन अवसर में स्थानीय साई मंदिर में संगीतमय शिव पुराण कथा का आयोजन किया जा रहा है।

Bhanupratappur Latest News

कल शुक्रवार को पंडित अनिल महाराज जी ने कथा के माध्यम से शिव पुराण कथा के पांचवा दिन भगवान शिव व माता पार्वती का विवाह सम्पन्न हुआ व शिव चरित्र कथा बताई।

Also read  :https://jandhara24.com/news/107418/vidhan-sabha-financial-year-2022-23-2904-the-first-supplementary-budget-of-rs-41-crore-passed-by-sound-the-recruitment-process-of-10-thousand-new-teachers-will-start-soon/

पूरा दिन मंत्र जाप पूजन अभिषेक होते रहे।

मंदिर परिसर में भगवान शिव व माता पार्वती के पूजन दर्शन व टिकावन के लिए भक्तो के भीड़ इतने अधिक रही के कुछ लोग बाहर खड़े रहते हुए दर्शन पाने के लिए इंतजार में लगे रहे।

वही प्रसाद के रूप में लड्डू व मिठाइयों की प्रसाद बांटी गई।

चौथे दिवस की कथा में कर्म का फल हर प्राणी को मिलता है,चाहे वह पूर्व जन्म के क्यो न हो इसलिए हमेशा अच्छे कर्म करना चाहिए।

भले किसी से डरे या न डरे लेकिन अपने कर्म से जरूर डरना चाहिए क्योंकि कर्म किस का पीछा नही छोड़ती है चाहे वह किसी जन्म में क्यो न हो। कर्म का फल भगवान को भी भुगतान पड़ा हम आप तो प्राणी मात्र है।

उन्होंने कहा कि कभी भी किसी साधु संत महात्मा का अपमान,निरादर नही बल्कि अधिक से अधिक उनका आदर सम्मान करना चाहिए, क्योंकि साधु संत महात्मा की बात मिथ्या नही होती है।

कभी भी निंदा करने वाले प्राणी को शिव की प्राप्ति नही होती है। बालक माता के गर्भ में रहता है तो बाहर निकलने के लिए प्रार्थना करता है,

हे ईश्वर मुखे इस नर्क से निकालो जीवन में मैं बस आपके आपका ही भजन कीर्तन करूँगा, लेकिन बाहर आने के बाद भजन कीर्तन को छोड़ भोजन करने में बीता देता है। इसलिए हो सके तो अधिक से अधिक समय भगवान के भजन कीर्तन में लगाना चाहिए।

Check out other tags:

Most Popular Articles