aajkijandhara

Transfer ट्रांसफर के नाम पर महिला कर्मचारी को अपने पास बुलाने का ऑडियो सोशल मिडिया पर वायरल

Amethi News : पत्नी की हत्या के आरोप में काटी जेल की सजा, 12 साल बाद प्रेमी के घर जिंदा मिली

Amethi News : पत्नी की हत्या के आरोप में काटी जेल की सजा, 12 साल बाद प्रेमी के घर जिंदा मिली

Amethi News : पत्नी की हत्या के आरोप में काटी जेल की सजा, 12 साल बाद प्रेमी के घर जिंदा मिली

 

Amethi News : अमेठी में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। आदमी को बिना किसी अपराध के जेल की सजा काटनी पड़ी। जिस पत्नी के पति को हत्या के आरोप में जेल में रहना पड़ा, वह 12 साल बाद अचानक उससे मिली। पति को पत्नी रायबरेली जिले से मिली। अब उसके परिजन मामले में समझौता कराने की मांग कर रहे हैं।

Bemetara News : घटिया बेस वर्क पर डामरीकरण की तैयारी, नाराज ग्रामीणों ने रुकवाया काम

Amethi News : मामला अमेठी जिले के जायस थाने के अली नगर इलाके का है. जहां मनोज कुमार वर्मा अपनी पत्नी सीमा वर्मा के साथ रहते थे। 25 मार्च 2011 को युवक की पत्नी सीमा वर्मा अचानक गायब हो गई। काफी तलाश के बाद भी पत्नी का पता नहीं चला। मनोज के ससुराल वालों ने

सीमा वर्मा के पति मनोज वर्मा पर अपनी ही पत्नी की हत्या कर शव छिपाने का आरोप लगाते हुए थाने में मामला दर्ज कराया है. इसके बाद मनोज को 11 दिन जेल में बिताने पड़े।

तो इसका खुलासा हुआ

जेल से जमानत पर छूटने के बाद मनोज कस्तर अपनी पत्नी की तलाश कर रहा था। साथ ही मामले को लेकर कोर्ट के चक्कर भी लगाए। वहीं, 11 साल बाद 10 जनवरी 2023 को मनोज को पत्नी के जिंदा होने की सूचना मिली।

जब मनोज ने इस बारे में पूछताछ की तो उसे पता चला कि उसकी पत्नी अपने तीन बच्चों के साथ मायके में रहती है। उसके बाद मनोज ने रायबरेली जिले के भदोखर थाने में सूचना दी. सूचना के बाद पुलिस उसकी पत्नी के बयान लेकर मौके पर पहुंची और आगे की कानूनी कार्रवाई की.

https://www.jandhara24.com/news/138961/why-agents-and-investors-of-chit-fund-companies-will-protest-on-23/

सुनिए पीड़िता का दर्द उन्हीं की जुबानी

पीड़िता के पति मनोज ने बताया कि रायबरेली की रहने वाली उसकी पत्नी सीमा ने 12 साल पहले एक व्यक्ति के साथ भागकर शादी कर ली थी. यह जानते हुए भी उसके परिजनों ने हम पर झूठे आरोप लगाए हैं। इसके लिए हमें जेल जाना पड़ा। 12 साल के मुकदमेबाजी से हमारी रोजी-रोटी छिन गई है। हम चाहते हैं कि पत्नी का बयान अदालत में सुना जाए ताकि हम अपनी बेगुनाही साबित कर सकें।

पुलिस की कार्यप्रणाली पर उठे सवाल

पत्नी के जिंदा मिलने के बाद पुलिस की कार्यशैली पर सवालिया निशान उठने लगे। पत्नी के परिजनों के लगाए आरोप भी निराधार साबित हुए। पुलिस की लापरवाही और गलत आरोप के चलते पीड़िता को 11 दिन की जेल के अलावा 12 साल के लिए कोर्ट जाना पड़ा है.

तिलोई सर्किल निदेशक अजय कुमार सिंह ने बताया कि आवेदन रायबरेली में दाखिल किया गया था. पुलिस आगे की जांच कर रही है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *