77th Cannes Film Festival- इतिहास में पहली बार दस भारतीय फिल्में आफिशियल सेलेक्शन में दिखाई जा रही

77th Cannes Film Festival- इतिहास में पहली बार दस भारतीय फिल्में आफिशियल सेलेक्शन में दिखाई जा रही
77th Cannes Film Festival- For the first time in history, ten Indian films are being shown in the official selection.

-अजित राय
हालीवुड की मशहूर अभिनेत्री मेरिल स्ट्रीप ने फ्रेंच अभिनेत्री जुलिएट बिनोश और कैमिली कोटीन के साथ मंगलवार की शाम 77वें कान फिल्म फेस्टिवल का उद्घाटन किया। हालीवुड की हीं एक-दूसरी अभिनेत्री ग्रेटा गेरविक को इस बार मुख्य प्रतियोगिता खंड की जूरी का अध्यक्ष बनाया गया है। हालीवुड की ही एक और अभिनेत्री लिली ग्लैडस्टोन भी जूरी की सदस्य हैं। जूरी की दूसरी महिला सदस्यों में लेबनान की नदाईन लबाकी और फ्रेंच अभिनेत्री एवा ग्रीन भी है। मतलब यह कि यह कान फिल्म फेस्टिवल का स्त्री काल चल रहा है। मेरिल स्ट्रीप को जब ‘आनरेरी पाल्मा डोरÓ से नवाजा गया तो दस मिनट तक ग्रैंड थियेटर लूमिएर तालियों से गूंजता रहा। उनके सम्मान में बोलते हुए जुलिएट बिनोश भावुक होकर रोने लगी। जूरी की अध्यक्ष ग्रेटा गेरविक भी मंच पर बोलते हुए भावुक हो गई। उन्होंने बस इतना कहा कि सिनेमा उनके लिए सबसे पवित्र चीज है।
क्वेंतिन डुपो की फ्रेंच फिल्म ‘द सेकंड ऐक्टÓ के प्रदर्शन के साथ विश्व का सबसे बड़ा फिल्मी मेला 77वां कान फिल्म फेस्टिवल मंगलवार 14 मई की शाम शुरू हो गया। यह एक अलग तरह की फिल्म है जिसके पांच प्रमुख चरित्र सिनेमा और असल जिंदगी में आवा जाही करते रहते हैं। एक जवान बेटी अपने पिता को अपने प्रेमी से मिलवाने एक निर्जन इलाके में स्थित द सेकंड ऐक्ट नामक बार में ले आती हैं। उसका प्रेमी उससे मुक्ति पाने के लिए अपने दोस्त को उससे करीबी बढ़ाने को उकसाता है। बार का मालिक जिंदगी से परेशान हैं और आत्महत्या करने की प्रैक्टिस करता है। पूरी फिल्म कथोपकथन शैली के संवादों में हैं। कहानी के भीतर भी फिल्म बन रही है और बाहर भी। अंत में हम अनंत दिशा की ओर भागती रेल की पटरी पर कैमरे को भागते हुए देखते हैं।

भारत के लिए 77वां कान फिल्म समारोह बहुत खास बन गया है। कान फिल्म समारोह के 77वर्षों के इतिहास में पहली बार दस भारतीय फिल्में आफिशियल सेलेक्शन में दिखाई जा रही है। इतना ही नहीं तीस साल बाद कोई भारतीय फिल्म मुख्य प्रतियोगिता खंड में चुनी गई है। वह फिल्म है पायल कपाडिय़ा की मलयालम हिंदी ‘फिल्मआल वी इमैजिन ऐज लाइटÓ। इससे पहले 1994 में शाजी एन करुण की मलयालम फिल्म ‘स्वाहमÓ प्रतियोगिता खंड में चुनी गई थी। पायल कपाडिय़ा जब भारतीय फिल्म एवं टेलीविजन संस्थान पुणे में पढ़ती थी तो 2017 में उनकी शार्ट फिल्म ‘आफ्टरनून क्लाउड्सÓ अकेली भारतीय फिल्म थी जिसे 70 वें कान फिल्म समारोह के सिनेफोंडेशन खंड में चुना गया था। इसके बाद 2021 में उनकी डाक्यूमेंट्री ‘अ नाइट आफ नोइंग नथिंगÓ को कान फिल्म समारोह के डायरेक्टर्स फोर्टनाइट में चुना गया था और उसे बेस्ट डाक्यूमेंट्री का गोल्डन आई अवार्ड भी मिला था। लेकिन इस बार पायल कपाडिय़ा ने इतिहास रच दिया है क्योंकि वे यहां ‘गाडफादरÓ जैसी कल्ट फिल्म बनाने वाले फ्रांसिस फोर्ड कपोला, आस्कर विजेता पाउलो सोरेंतिनों, माइकल हाजाविसियस और जिया झंके, अली अब्बासी, जैक आड्रियार्ड, डेविड क्रोनेनबर्ग जैसे विश्व के दिग्गज फिल्मकारों के साथ प्रतियोगिता खंड में चुनी गई है।
कान फिल्म समारोह के दूसरे सबसे प्रमुख खंड अन सर्टेन रिगार्ड में इस बार दो भारतीय फिल्में आफिशियल सेलेक्शन में दिखाई जा रही है। संध्या सूरी की फिल्म ‘संतोषÓ और बल्गारियाई निर्देशक कोंस्तानतिन बोजानोव की फिल्म ‘द शेमलेसÓ। डायरेक्टर्स फोर्टनाइट खंड में करण कंधारी की फिल्म ‘सिस्टर मिडनाइटÓ दिखाई जा रही है जिसमें पंचायत वेब सीरीज फेम अभिनेता अशोक पाठक और राधिका आप्टे ने मुख्य भूमिका निभाई है। कान क्लासिक खंड में शिवेंद्र सिंह डूंगरपुर की फिल्म हेरिटेज फाउंडेशन द्वारा संरक्षित की गई श्याम बेनेगल की फिल्म ‘मंथनÓ दिखाई जा रही है। दुनिया भर के फिल्म स्कूलों में पढ़ रहे छात्रों की फिल्मों के विशेष खंड सिने फाउंडेशन (ल सिनेफ) में भारतीय फिल्म एवं टेलीविजन संस्थान पुणे के चिदानंद एस नाइक की फिल्म ‘सन फ्लावर्स वेयर फर्स्ट धंस टु नोÓ और यूके की मानसी महेश्वरी की फिल्म ‘बन्नीहुडÓ चुनी गई है। एसिड खंड में माइसाम अली की फिल्म ‘इन रिट्रीटÓ दिखाई जा रही है जो लद्दाख में शूट हुई हैं। कान फिल्म समारोह में इस बार एक नया खंड जोड़ा गया है – ‘इम्मर्सिव कंपीटिशनÓ। इसमें पाउलोमी बसु की फिल्म चुनी गई है – ‘माया, द बर्थ आफ अ सुपर हीरोÓ। कान अक्रांस जूनियर खंड में शुची तलाती की फिल्म ‘गल्र्स विल बी गल्र्सÓ चुनी गई है। भारतीय सिनेमा के लिए यह एक ऐतिहासिक घटना है।
कान फिल्म समारोह में इस बार बहुत सारी भारतीय गतिविधियां हो रही है। मुंबई से अभय सिन्हा और अतुल पटेल के नेतृत्व में पहली बार इंडियन मोशन पिक्चर्स एसोसिएशन का तीस से भी अधिक फिल्म निर्माताओं का एक बड़ा प्रतिनिधि मंडल कान के फिल्म बाजार में भाग ले रहा है। भारत मंडप इस बार एक खास उत्सव आयोजित कर रहा है, ‘भारत पर्वÓ। इंडियन पैवेलियन का नाम बदलकर भारत मंडप कर दिया गया है। आज बुधवार को भारत सरकार के सूचना और प्रसारण मंत्रालय में सचिव संजय जाजू, फ्रांस में भारतीय राजदूत जावेद अशरफ और कान फिल्म समारोह के उप निदेशक और प्रोग्रामिंग हेड क्रिस्तियान जियून ने भारत मंडप का उद्घाटन किया। इस मंडप का संचालन फिक्की की ओर से लीना जैसानी और उनकी टीम कर रही है। उधर फिल्म बाजार में भारतीय उद्योगपतियों की संस्था कंफेडरेशन ऑफ इंडियन इंडस्ट्री (सीआईआई) ने भी एक विशाल भारत मंडप बनाया है जहां कई भारतीय फिल्म निर्माताओं ने भी अपने स्टाल लगाए हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

MENU