समता साहित्य अकादमी छ.ग.राज्य ईकाई ने व्याख्याता केवरा सिंह को किया सम्मानित

सक्ती ।। समता साहित्य अकादमी छत्तीसगढ़ राज्य ईकाई ने नवीन जिला सक्ती अंतर्गत मालखरौदा ब्लाक के शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय बंदोरा में पदस्थ व्याख्याता केवरा सिंह को उत्कृष्ट शिक्षक रत्न सम्मान से सम्मानित किया है। 22 जून, बुधवार को उन्हें यह सम्मान समता साहित्य अकादमी छत्तीसगढ़ के प्रादेशिक सलाहकार योमप्रकाश लहरे तथा सक्ती जिलाध्यक्ष उदय मधुकर ने शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय बंदोरा में शिक्षक स्टाफ तथा समस्त विद्यालयीन बच्चों के समक्ष साल, श्रीफल व उत्कृष्ट शिक्षक रत्न सम्मान प्रदान किया । इस मौके पर अकादमी के प्रादेशिक सलाहकर व सक्ती जिलाध्यक्ष उदय मधुकर ने उन्हें बधाई देते हुए उनकी उज्ज्वल भविष्य की मंगलकामना की है। ज्ञात हो कि व्याख्याता केवरा सिंह को यह सम्मान बीते 14 जून को संत कबीर जयंती के मौके पर अकादमी द्वारा धमतरी में आयोजित प्रादेशिक सम्यक प्रबोधन सम्मेलन के गरिमामयी मंच से प्रदान किया जाना था पर किसी कारणवश वो धमतरी नहीं पहुंच सके थे लिहाजा अकादमी के पदाधिकारियों द्वारा आज उन्हें उनका सम्मान प्रदान किया गया है। इस अवसर पर प्राचार्य रूपलाल भारद्वाज, व्याख्याता डी. के. पटेल, पुष्पेंद्र सिदार, दीप सिंह बघेल, अशोक धीरहे, गिरजा शंकर साहू, रेतीरमण साहू, नीरज निर्मलकर, धर्मेन्द्र पैकरा, चंद्रशेखर पैकरा, श्याम लहरे, हेमप्रभा गर्ग, वसुंधरा जगत, सुरेंद्र ओगरे, राजेन्द्र मिश्रा, ब्रजेश शर्मा, शकुन ढेढ़े तथा छात्र-छात्राएं उपस्थित रहे। विदित हो कि व्याख्याता केवरा सिंह शिक्षा के क्षेत्र में अपने शिक्षक के रूप में अपने दायित्वों का निर्वहन के अलावा सामाजिक स्तर पर लोगों के बीच शिक्षा, स्वास्थ्य, साक्षरता, बालिका शिक्षा के क्षेत्र तथा संगीत के क्षेत्र में रचनात्मक कार्यों के जरिए सामाजिक उत्थान के लिए कार्य कर रही हैं। वहीं बात समता साहित्य अकादमी की करें तो यह संस्था समाज के ऐसे प्रतिभाएं जो शिक्षा, स्वास्थ्य, कला, फिल्म, विज्ञान, संस्कृति सहित जीवन के विविध क्षेत्रों में अपनी रचनात्मक कार्यों से समतामूलक समाज स्थापना में अपना योगदान दे रहे हैं। ऐसी प्रतिभाओ का सम्मान प्रदान कर सशक्त समाज निर्माण तथा सामाजिक सौहार्द के लिए कार्य करती चली आ रही है। वर्तमान में धमतरी के जी. आर. बंजारे”ज्वाला” प्रांताध्यक्ष तथा श्रीमती सुशीला देवी बाल्मीकि प्रदेश संरक्षक के रूप में अकादमी के गतिविधियों को आगे बढ़ा रहीं हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

MENU