breaking news New

बस्तर में स्वयंसेवक की हत्याओं से व्यथित आरएसएस ने निकाली मौन रैली, राज्यपाल को सौंपा ज्ञापन, भाजपा के शीर्ष नेता रमन, कौशिक, बृजमोहन अग्रवाल रैली में शामिल हुए

बस्तर में स्वयंसेवक की हत्याओं से व्यथित आरएसएस ने निकाली मौन रैली, राज्यपाल को सौंपा ज्ञापन, भाजपा के शीर्ष नेता रमन, कौशिक, बृजमोहन अग्रवाल रैली में शामिल हुए


रायपुर. बस्तर में स्वयंसेवकों की हो रही हत्याओं के विरोध में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने आज वीआईपी रोड स्थित राम मंदिर से एक विशाल मौन रैली निकालकर राज्यपाल, राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, गृहमंत्री व छत्तीसगढ के मुख्यमंत्री के नाम जिलाधीश को ज्ञापन सौंपा गया।

मौन प्रर्दशन में पुर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह, नेता प्रतिपक्ष धर्मलाल कौशिक, विधायक बृजमोहन अग्रवाल, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विक्रम उसेंडी, भाजपा के सभी सांसद, विधायक एवं जनप्रतिनिधि सहित छतीसगढ़ के बस्तर, सरगुजा सहित सभी जिलों से संघ के हजारों कार्यकर्ता उपस्थित रहे जिसमें बड़ी संख्या में मातृशक्ति उपस्थिति रही। सरकार से हत्या के दोषियों पर कड़ी कार्रवाई करने की मांग की गई.

प्रांत प्रचार प्रमुख सुरेन्द्र कुमार ने बताया कि हाल ही में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवक के स्वयंसेवक, पूर्व सरपंच दादू सिंह कोरेटिया की कुछ लोगों ने उनके घर में घुसकर हत्या कर दी थी. इस अवसर पर आयोजित सभा में संघ के सह प्रांत संघचालक डॉक्टर पूर्णेन्दु सक्सेना ने कहा कि हाल ही में संघ एवं अन्य सामाजिक संस्थाओं से जुड़े हुए कई कार्यकर्ताओं को धमकियां दी गई हैं, उनके साथ हिंसात्मक व्यवहार किया गया है, हत्याएं हुई हैं एवं गांव छोड़कर जाने की स्थितियां उत्पन्न की गई है।

संघ इस बात का आग्रही है कि समाज में अलग-अलग मत रखने वाले लोग भी परस्पर सद्भाव, सम्मान और सहकार के साथ रहें परंतु  विभिन्न जाति एवं जनजातीय समाजों को एक दूसरे के विरोध में खड़ा किया जा रहा है और परंपरागत धार्मिक उत्सवों और यात्राओं में पूर्व जैसा मिलजुलकर मनाने की परंपरा रही है, उसमें अवरोध उत्पन्न किया जा रहा है, अत: उक्त प्रकार के कृतियों की जांच होगी और सभी दोषी शक्तियों पर समाधान कारक कार्रवाई होगी, ऐसी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की अपेक्षा है।

इस अवसर पर मंचासीनों में बालक दास महाराज, स्वामी प्रपन्नाचार्य, प्रांत कार्यवाह चंद्रशेखर वर्मा, सह प्रांत कार्यवाह चंद्रशेखर देवांगन, प्रांत प्रचारक प्रेम शंकर, कार्यकम के संयोजक सुशील यादव तथा रुपनारायण सिन्हा उपस्थित थे.