breaking news New

आदिवासी महिला ने लगाया सरपंच पर धोखाधड़ी का आरोप

आदिवासी महिला ने लगाया सरपंच पर धोखाधड़ी का आरोप

धमतरी, 11 सितंबर। भोले-भाले आदिवासियों को बहला-फुसलाकर आदमी किस तरह उनका शोषण करता है उसका प्रत्यक्ष प्रमाण मगरलोड थानांतर्गत निवासी हीराबाई कंवर से दिया जा सकता है। जिसके पति हीरालाल कंवरके नाम पर कृषि भूमि मेघा मोहंदी मुख्य सड़क में स्थित था जिसका खसरा नंबर 248 रकबा मात्र 0.13 हे.बिना कलेक्टर की मंजूरी एवं किसी भी प्रकार की विधिवत कार्यवाही न करते हुए उक्त भूमि को बिना नामांतरण के अपने नाम पर चढ़ा लिया तथा वहां रिलायंस का टॉवर लगाकर पिछले पांच वर्ष से रिलायंस कंपनी वालों से बकायदा उसका किराया राशि प्राप्त कर रहा है जिसकी रिपोर्ट थाना प्रभारी को की गई। लेकिन कार्यवाही नहीं होने के अभाव में पुलिस अधीक्षक धमतरी को पुन: मृतक की पत्नी हीराबाई ने दिनांक 9.9.2019 को लिखित शिकायत भी देकर उचित कार्यवाही की मांग की है।

पुलिस अधीक्षक और थाना प्रभारी को की गई शिकायत में मानसिंग एवं कोमल यदु ग्राम मोहंदी ने बताया है कि ग्राम पंचायत के सरपंच श्रवण  साहू द्वारा ग्राम मोहंदी प.ह.नं.18 मगरलोड के आदिवासी समाज से जुड़े हीरालाल पिता दुर्योधन कंवर के नाम पर कृषि भूमि मेघा मोहंदी मुख्य मार्ग में स्थित हेै। यह भूमि हीरालाल की दिनांक 7 अक्टूबर 2014 को मृत्यु के बाद हीराबाई के नाम पर दर्ज किया गया। ग्राम सरपंच द्वारा उक्त महिला के सीधेपन का लाभ उठाते हुए यह कहकर भू अधिकार पत्र लिया गया कि तुम्हें शासकीय मदों से निराश्रित राशि दिलाने का कार्य करूंगा। वह भोली-भाली महिला उसके षडय़ंत्र को समझ नहीं पाई और वह अपनी ऋण पुस्तिका, भू अधिकार पत्र दे दिया जिसके बाद उसे शासकीय मदों से मिलने वाली राशि का इंतजार था। लेकिन उसे किसी प्रकार शासकीय सहयोग नहीं मिल पाया। इस वजह से उसने अपने गांव के परिचित कोमल यदु तथा मानसिंग को इस मामले की तहकीकात करने और सरपंच द्वारा की गई धोखाधड़ी का पता लगाने कहा। दोनों व्यक्तियों ने जब हीराबाई के द्वारा प्रदत्त अधिकार पत्र प्राप्त होने के बाद इन्होंने इसकी गहन छानबीन की तो पता चला कि उक्त भूमि जो वर्तमान में हीराबाई के नाम पर था उसे सरपंच द्वारा बिना किसी नामांतरण अथवा कलेक्टर की मंजूरी लिये बिना अपने नाम से चढ़ा ली गई है। सबसे महत्वपूर्ण तथ्य यह है कि आदिवासी की जमीन बेचने से पूर्व कलेक्टर से अनुमति लेना पड़ता है, लेकिन नहीं ली गई। इसके अतिरिक्त किसी प्रकार की पंजीयन की कार्यवाही भी नहीं हुई और हल्का क्षेत्र के पटवारी राजस्व की मिलीभगत से उक्त भूमि का वह मालिक बन बैठा।

शिकायत में हीराबाई के मुख्तियार कोमल यदु ने पुलिस अधीक्षक को यह भी बताया है कि सूचना के अधिकार से प्राप्त जानकारी में तहसीलदार मगरलोड एवं अनुविभागीय अधिकारी राजस्व कुरूद द्वारा वर्ष 2011-12, 13-14 की मूल नामांतरण पंजी में खसरा नंबर 248 रकबा 0.13 हे.का किसी प्रकार का नामांतरण होना नहीं पाया गया और यह खसरा नंबर 248 रकबा 0.13 हे.में ऋण भी देना बैंक से लिया जाना बताया गया है। यह जानकारी उसे सूचना के अधिकार के तहत प्राप्त हुई है जिसे संलग्र करते हुए पुलिस अधीक्षक से आदिवासी गरीब महिला की जमीन हड़पने वाले दोषी व्यक्तियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही किये जाने की मांग की गई है। इसी तारतम्य में थाना प्रभारी मगरलोड को भी एक शिकायत मानसिंग ने 29.7.2019 को की है जिसमें भी उक्त महिला को अपने जमीन के हक से वंचित करने वाले व्यक्तियों के विरूद्ध कार्यवाही की मांग की गई है। इस संबंध में प्रदीप यादव नोटरी अधिवक्ता कुरूद के समक्ष हीराबाई ने शपथ पत्र प्रस्तुत किया है जिसमें उपरोक्त तथ्यों को समाहित कर बताया है कि ग्राम पंचायत मोहंदी के वर्तमान सरपंच श्रवण साहू मेरे पति की मृत्यु के बाद मेरे साथ धोखाधड़ी व गुमराह कर रोजगार गारंटी में भूमि सुधार का काम आया है कहकर मेरे से ऋण पुस्तिका मांगकर ले गये। ऋण पुस्तिका मांगने गई तो मैं जमीन खरीद लिया हुं कहा, जबकि मैने कोई जमीन आपको नहीं बेचा है। इस पर वह धमकी देकर मुझे भयभीत किया है जिसकी जानकारी गांव के ग्रामीण कोमल यदु, मानसिंग, किसन साहू को दी हुं। उक्त जमीन हड़पने में पटवारी हल्का का भी चरित्र संदेह के घेरे में है। इस तरह एक लाचार आदिवासी महिला से छल कपट और धोखाधड़ी करने वाले सरपंच के विरूद्ध न तो पुलिस विभाग द्वारा कोई कार्यवाही की गई है, न ही सरपंच ने उसकी ऋण पुस्तिका लौटाई है। इस संबंध में मोहंदी सरपंच श्रवण साहू से दूरभाष पर संपर्क कर उनका पक्ष लिया गया जिस पर उन्होंने कहा कि त्रुटिवश नाम चढ़ गया है। हालांकि यह जमीन मैं खरीद चुका हुं और कलेक्टर से अनुमति लेकर उक्त जमीन को मैं अपने नाम से रजिस्ट्री करवा लूंगा। मगरलोड थाना प्रभारी संतोष जैन से संपर्क किये जाने पर उनका कहना था कि इस संबंध में शिकायत प्राप्त हुई है और संबंधितों को नोटिस जारी की गई है। हीराबाई कंवर ने कलेक्टर रजत बंसल से मांग की है कि संपूर्ण मामले की जांच कर राजस्व अमला के दोषी अधिकारियों पर उचित कार्यवाही करेंगे।